Search
  • Noida, Uttar Pradesh,Email- masakalii.lifestyle@gmail.com
  • Mon - Sat 10.00 - 22.00

Category Archives: Relationship

Summer season is very special for intimacy

हेल्दी रिेलेशनशिप को बरकरार रखने के लिए इंटीमेसी (Intimacy) काफी जरूरी है। मौसम चाहे कोई भी हो। बता दें कि गर्मी के मौसम में अक्सर पसीना और संक्रमण इंटिमेट एरिया को प्रभावित करता है। ऐसे में इंफेक्शन का खतरा बना रहता है। जो सेक्सुअल जीवन को भी प्रभावित करने लगता है। मूड को अपलिफ्ट करके सेक्स को स्पाइसी बनाने के लिए कुछ स्पेशल टिप्स को जरूर फॉलो करें। आइये यहां जानते हैं गर्मी के मौसम में सेक्स के फायदे और नुकसान और साथ ही हेल्दी सेक्सुअल लाइफ के लिए मजेदार टिप्स-

क्यों गर्मी का मौसम है बहुत खास

हार्वर्ड मेडिकल स्टडी के मुताबिक गर्मी के मौसम में सेरोटोनिन का स्तर बढ़ने लगता है, जिससे आप रोमांटिक रिश्ते के लिए ज्यादा उत्साहित होते हैं। यह आपके लिए ज्यादा आनंददायक भी हो सकता है। दरअसल, गर्मी के दिनों में रक्त प्रवाह में बढ़ोतरी होने लगती है, जिससे यौन उत्तेजना बढ़ने लगती है।

Summer season is very special for intimacy

सूरज की तेज़ रोशनी शरीर में विटामिन-D के स्तर को बढ़ाती है। इससे कामेच्छा बढ़ने लगती है और ये मूड बुस्टर साबित होता है। दरअसल, विटामिन-D की कमी से शरीर में एस्ट्रोजन और टेस्टोस्टेरोन का स्तर प्रभावित होता है, जिसके कारण सेक्स ड्राइव कम हो जाती है।

कुछ असुविधा भी हो सकती है

गर्मी में चिपचिपाहट और वेजाइनल इंफेक्शन इचिंग, दुर्गंध और रैशेज का प्रोब्लम को बढ़ा देते हैं। इस बारे में गायनीकोलॉजिस्ट डॉ सुरभि सिंह बताती हैं कि समर्स में स्वैटिंग के चलते वेजाइना में बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। ऐसे में सेक्स के बाद जेनिटल्स की साफ सफाई का ध्यान रखना आवश्यक है।

सेक्स के दौरान खुद को हाइड्रेट रखने के साथ रूम टैम्परेचर को उचित बनाए रखें। समर्स में एलर्जी से बचने के लिए गर्मी से बचें और इंटिमेट हाइजीन को बनाए रखना ज़रूरी है। इससे यौन संबधों के दौरान प्लेजर की प्राप्ति होती है।

होम इंटीमेट हेल्‍थ प्यार के लिए भी खास होता है गर्मी का मौसम, यहां जानिए इसे और भी शानदार बनाने के टिप्स
प्यार के लिए भी खास होता है गर्मी का मौसम, यहां जानिए इसे और भी शानदार बनाने के टिप्स
बढ़ती गर्मी ने सभी का हाल बेहाल कर रखा है। गर्म लू के थपेड़े और पसीने से तर बतर देह। पर क्या आप जानते हैं कि यह मौसम आपकी रोमांटिक रिलेशनशिप के लिए बहुत खास होता है। जी हां, ये बिल्कुल सच है।

गर्मी में सेक्स को हेल्दी बनाने के लिए इन टिप्स को फॉलो करें

1. हाइड्रेट रहना हैं अहम

गर्मी के मौसम में शरीर को हाइड्रेट रखना आवश्यक है। इससे शरीर का तापमान उचित बना रहता है। सेक्स से पहले ठंडे और हेल्दी पेय पदार्थों का सेवन करें, ताकि शरीर में एनर्जी और ठंडक बनी रहती है। बॉडी हीट को मैनेज करने के लिए दिनभर में उचित मात्रा में पानी पीएं।

2. आइस क्यूब का करें इस्तेमाल

Summer season is very special for intimacy

सेक्स सेशन सिज़लिंग बनाने के लिए आइस क्यूब प्रयोग करें। फिर चाहे आरल सेक्स हो या फिर पार्टनर को प्लेजर देने के लिए रबिंग आइस क्यूब का प्रयोग करें। इससे गर्मी में ठंडक मिलने लगती है। इसके अलावा सेक्स टॉयज को भी ठंडा करके इस्तेमाल करें। इससे ऑर्गेज्म की प्राप्ति होती है।

3. रूम टेम्परेचर को रखें बरकरार

चिपचिपाहट की वजह से सेक्स के दौरान संक्रमण का खतरा बना रहता है। ऐसे में गर्मी को दूर करने के लिए एअर प्यूरी फायर, पंखे और एयरकंडीशनर से कमरे के तापमान को सामान्य बनाएं। इससे उमस का सामना नहीं करना पड़ता है। साथ ही इंटरकोर्स के दौरान बढ़ने वाली स्वैटिंग की समस्या भी हल हो जाती है।

4. शावर सेक्स है काफी फायदेमंद

स्वैटिंग से अपना बचाव करने के लिए शावर सेक्स ट्राई करें। इससे सेक्स सेशन स्पाइसी होने लगता है और शरीर में हैप्पी हार्मोन रिलीज़ होते हैं। इससे यौन जीवन में नयापन आने लगता है और बॉन्ड मज़बूत हो जाता है। गर्मी के मौसम में सेक्स के दौरान बढ़ने वाला संक्रमण का खतरा कम होने लगता है।

5. हाइजीन का रखें ध्यान

पहले और बाद में बैक्टीरिया इंफेक्शन से बचने के लिए इंटिमेट हाइजीन तो मेंटेन रखना जरूरी होता है। इससे योनि का हेल्थ भी उचित रहता है। अलावा इसके टॉयज का इस्तेमाल करने से भी हाइजीन का ख्याल रखना चाहिए, नहीं तो संक्रमण फैलने का खतरा बना रहता है।

फोटो सौजन्य- गूगल

Some special tips about female orgasm

Female Orgasm: महिलाओं में भी सेक्स को लेकर असीम डिजायर होता है लेकिन वो अपने पार्टनर से ऑर्गेज्म के बारे में खुलकर बात नहीं कर पातीं। कुछ ऐसी भी महिलाएं हैं जिन्होंने कभी ऑर्गेज्म का अनुभव नहीं किया। हालांकि, महिलाओं को पहले अपनी बॉडी से जुड़ी हर जानकारी होना अहम है, तब वे अपने पार्टनर को अपनी बॉडी एक्सप्लोर करते समय अपना प्लेजर प्वाइंट से अवगत करा सकती हैं। वहीं, कई बार महिलाओं के काफी प्रयास के बाद भी उन्हें ऑर्गेज्म नहीं आता, या फिर उन्हें ऑर्गेज्म तक पहुंचने में लंबा वक्त लग सकता है। बतां दें कि ऐसा क्यों होता है, क्योंकि महिलाएं अपना प्लेजर प्वाइंट नहीं जानती।

क्या आप जानते हैं ऑर्गेज्म भी अलग-अलग तरह के हो सकते हैं। महिलाओें के ऑर्गेज्म तक पहुंचने का तरीका अलग-अलग हो सकता है। एक्सपर्ट से जानेंगे कि महिलाएं में कितने प्रकार के ऑर्गेज्म हासिल कर सकती हैं।

यहां जानें अलग अलग प्रकार के फीमेल ऑर्गेज्म

1. G-स्पॉट ऑर्गेज्म

Some special tips about female orgasm

जी स्पॉट वेजिनल वॉल में अंदर की तरफ होता है। यह आपकी वेजाइनल ओपनिंग और सर्विक्स के बीच होता है। कुछ शोधकर्ताओं का तर्क है कि यह एक यौन अंग है, जबकि अन्य मानते हैं, कि यह क्लीटोरिस के नर्व एंडिंग के नेटवर्क का हिस्सा है। जी-स्पॉट सेक्स अन्य तरह के सेक्स की तुलना में काफी तीव्र महसूस होते हैं।

2. ब्लेंडेड ऑर्गेज्म

ब्लेंडेड ऑर्गेज्म वे क्लाइमैक्स है, जो एक समय में एक से अधिक एरोजेनस जोन के उत्तेजित होने पर प्राप्त होती है। क्लिटोरिस, जी-स्पॉट, निप्पल जैसे कामुक क्षेत्रों का कोई भी संयोजन मिश्रित ऑर्गेज्म की ओर ले जा सकता है।

3. वेजाइनल ऑर्गेज्म

क्लिटोरिस के अलावा, योनि में अतिरिक्त उत्तेजक जोन होते हैं। ए-स्पॉट, या एंटीरियर फोर्निक्स, सर्विक्स के ठीक नीचे योनि की उच्च सामने दीवार पर स्थित है। इस क्षेत्र को सही तरीके से छूने पर एक डीप वेजाइनल सेक्स ट्रिगर हो सकता है। कुछ महिलाएं सर्विक्स के स्टिम्युलेट होने से भी ऑर्गेज्म प्राप्त कर लेती हैं। क्योंकि इन क्षेत्रों में नर्वस के साथ लिगामेंट होते हैं, जो अत्यधिक संवेदनशील हो सकते हैं।

4. निप्पल ऑर्गेज्म

Some special tips about female orgasm

आपके ब्रेस्ट और निप्पल ज्यादातर महिलाओं के एरोजेनस जोन होते हैं, इसलिए उन क्षेत्रों को उत्तेजित करके ऑर्गेज्म प्राप्त करना संभव है। निप्पल विशेष रूप से छूने पर प्रतिक्रिया करती है, क्योंकि उनमें कई नर्व एंडिंग होती हैं।

5. क्लिटोरल ऑर्गेज्म

क्लिटोरिस एक यौन अंग है, जो योनि के बाहरी भाग पर एक छोटे से उभरे हुए टिशु की तरह दिखती है, लेकिन यह आपकी योनि में भी आंतरिक रूप से फैली हुई होती है। यह लाखों नर्व एंडिंग से बनी होती है, जो इसे उत्तेजना के प्रति विशेष रूप से संवेदनशील बनाते हैं। क्लिटोरिस को सीधे उत्तेजित करने या क्लिटोरिस के आस-पास के लेबिया को छूने से उस क्षेत्र में ब्लड फ्लो बढ़ जाता है, जिससे क्लिटोरिस फूल जाता है और उसे ऑर्गेज्म की आवश्यकता होती है। इस प्रकार आप अपनी क्लिटोरी को स्टिमुलेट कर आर्जेम प्राप्त कर सकती हैं।

6. मल्टीपल ऑर्गेज्म

महिलाएं मल्टीपल ऑर्गेज्म का अनुभव कर सकती हैं, क्योंकि उन्हें ऑर्गेज्म और उत्तेजना के बीच बहुत अधिक समय की आवश्यकता नहीं होती है।

7 common life mistakes that can ruin your sex life

आप भी अपने Partner से जुदा-जुदा रहती हैं क्या? कभी-कभी ऐसा फील होता है क्या कि रिश्ते में कटास आ गई है? आप अगर अपने रिश्ते को परवान चढ़ाते हुए लंबा ले जाने का रास्ता तलाश रही हैं तो आप एकदम सटीक जगह पर हैं। हकीकत में तेज रफ्तार लाइफ में जितनी तेजी से रिश्ते बनते हैं उनके टूटने का भय भी उतना ही अधिक रहता है। खासतौर से लंबे रिलेशनशिप में रहना किसी के लिए भी इमोशनल अत्याचार बन सकता है। जिससे आप मुहब्बत करती हैं उससे इतने लंबे वक्त तक दूर रहना आपको एक इमोशनल रोलरकोस्टर राइड पर ले जाने के लिए काफी है। जिसमें एक समय खुशी और दूसरे समय गम के गुबार हो सकते हैं। इसलिए ऐसे मसले में आपको अपनी भावनाओं और अपने रिश्ते को काफी प्यार और देखभाल के साथ संभालने की आवश्यकता है।

यह सुनिश्चित करना भी बहुत जरूरी है कि आपके बीच की शारीरिक दूरी भावनात्मक दूरी और गलतफहमी में ना तब्दील हो जाए। लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप में आप दोनों अलग-अलग वक्त पर चीजें करते हैं क्योंकि कई जगहों पर समय का भी अंतराल होता है। ऐसे में एक दूसरे से संपर्क में रहना भी मुश्किल हो जाता है। तो चलिए जानते हैं कि आप अपने लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप को कैसे बेहतर बना सकते है।

आईये जानें कैसे लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप को मजबूत और आनंददायक बनाया जा सकता है-

1. रोमांटिक वर्चुअल डेट नाइट्स का करें प्लान

सिर्फ जन्मदिन या सालगिरह पर कभी-कभार डेट करने के बजाय, अक्सर अपने प्यार का जश्न मनाए। एक वर्चुअल डेट रखें। ऐसा दिन और समय चुनें जो आप दोनों के लिए सुविधाजनक हो और अपना खास ध्यान अपने विशेष व्यक्ति पर उसी तरह लगाएं जैसे आप फिजिकल डेट पर करते हैं। थोड़े से प्रयास से वर्चुअल डेट को खास बनाया जा सकता है।

सुनिश्चित करें कि आपका इंटरनेट कनेक्शन अच्छा है ताकि आपकी डेट नाइट में कोई बाधा ना आ सके। क्योंकि बाधा आप दोनों के मूड को चेंज कर सकती है।

2. इंटिमेट मैसेज से उन पल का लें मजा

Some Natural Ways To Spice Up Your Sex Life

अगर आप अपने प्यार का इज़हार आपस में जुड़े होठों और आपस में उलझी उंगलियों से नहीं कर सकते तो निराश न हों। इंटिमेट मेसेज भेजना उन चीज़ों को महसूस करने में आपकी मदद करता है।

अपने पिछले इंटिमेट अनुभव पर बात कर सकते हैं और उसे फिर से जी सकते हैं, धीरे-धीरे अपना ध्यान अपनी कल्पनाओं पर फोकस कर सकते हैं।

3. एक सरप्राइज विजिट प्लान कर सकते हैं

आप अपने पार्टनर से मिलने के लिए एक सरप्राइज़ यात्रा कर सकते हैं उन्हें बिना बताए आप उन्हें मिलने के लिए उनके घर पहुँच सकते हैं। जिससे देख कर वह काफ़ी ख़ुश हो सकते हैं। इसके लिए आप एक योजना बनाएं जिसमें आपके पार्टनर को ये पता न चले कि आप उनसे मिलने आ रही है।

इस तरह के सरप्राइज़ आपके पार्टनर को यह महसूस करा सकते हैं कि वे आपके लिए ज़रूरी है कि इससे उन्हें खास फ़ील करने में भी मदद मिल सकती है। क्योंकि आप एक दूसरे से काफ़ी समय से दूर हैं जिसकी वजह से इमोशनल कनेक्शन ख़त्म हो सकता है। इस तरह के सरप्राइज़ विज़िट उन्हें फिर से इमोशन बनाए रखने में मदद कर सकते हैं।

4. उन्हें सरप्राइज़ देने के लिए कोई स्किल सीखें

आप गिटार पर एक रोमांटिक गाने की दिल को गुनगना देने वाली धुन बजाना सीख सकते हैं और अपने अगले वीडियो कॉल पर अपने पार्टनर को सरप्राइज़ कर सकते हैं। एक नृत्य, एक पेंटिंग, या एक स्केच भी आपको उनकी आँखों में चमक देखने में मदद कर सकता है। अपने साथी को बताएं कि वे आपके लिए एक प्यारी आदत की तरह हैं और आप उनसे कितना प्यार करते है।

5. एक-दूसरे से बातें शेयर करते रहें

Some Natural Ways To Spice Up Your Sex Life

लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप में रहने पर ये समझना बहुत ज़रूरी है कि आप एक दूसरे से अपनी हर एक बात शेयर करें क्योंकि आप एक दूसरे के साथ नहीं रह रहे हैं या समय समय पर एक दूसरे से नहीं मिल रहे हैं। इसलिए पार्टनर ख़ुद देख कर उसके मूड का पता नहीं लगा सकता हैं। इसलिए लॉन्ग डिस्टेंस में रहने पर एक दूसरे से बातें शेयर करना और उन्हें ये बताना कि आप ख़ुश हैं या या नहीं है बहुत ज़रूरी है।

जब आप पार्टनर के साथ होते हैं तो ये अपेक्षाएं कर सकते हैं कि वो आपको देखकर समझ जाएं कि आपको कोई बात परेशान कर रही है या नहीं, लेकिन जब दूर होते हैं तो आपको ये समझना चाहिए कि वो आप ख़ुद देख नहीं पा रहे हैं और न ही मिल पा रही है जिससे वो आपके मूड को खुद नहीं समझ पाएंगे उसके लिए आपको उन्हें बताना ही होगा।

6. छोटी बातों को तूल न दें

जब आप लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप में रहते हैं तो छोटी छोटी बातों को ज़्यादा तूल देने से या बड़ा बनाने से बचना चाहिए। ऐसी लड़ाई से बचना चाहिए जिसकी कोई ज़रूरत नहीं है क्योंकि जब आप दूर रहते हैं तो गलतफहमियां अधिक हो सकती है क्योंकि उस समय न आप एक दूसरे से मिलते हैं और न ही बहुत ज़्यादा बात हो पाती है।

7. इसे समझने की कोशिश करें कि आप वाकई दूर हैं

इस बात को एक्सेप्ट और समझना बहुत ज़रूरी है कि आप लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप में है इसलिए वो चीज़ें आपके रिश्ते में नहीं हो सकती जो साथ में रहते हुए एक रिलेशनशिप में हो सकती है। इसलिए उन चीज़ों को लेकर शिकायतें करने से बचना चाहिए जो लॉग डिस्टेंस रिलेशनशिप में संभव नहीं है।

फोटो सौजन्य- गूगल

Sleep Separation: Separation of bedroom for a long time causes distance in relationships

Sleep Separation: आजकल शादीशुदा जिंदगी में एक ‘आदत’ काफी तेजी से फैल रहा है वो है स्लीप सेपरेशन या स्लीप डाईवोर्स। हम जानते है कि शादी के बाद कपल्स कई दिनों तक एक-दूसरे के साथ हर जगह स्पेस साझा करते हैं फिर चाहे वो बेड हो, किचन हो या आउट डोर। अगर वो अचानक एक दिन अपने बेडरूम अलग करने लगते हैं और ‘मी टाइम’ की तलाश में रहते हैं जिसे स्लीप सेपरेशन या स्लीप डाइवोर्स कहा जाता है। सुकून की नींद, आराम और पर्सनल स्पेस के लिए बहुत सारे लोग इस फॉर्मूला को अपना रहे हैं। इस स्थिति में दोनों पार्टनर अलग-अलग कमरों में सोते हैं। जिन लोगों को देर रात तक काम करना होता है, वे लोग भी पार्टनर की सहुलियत के लिए ऐसा करना चुनते हैं। लेकिन इसके सिर्फ फायदे ही नहीं हैं, कुछ साइड इफेक्ट्स भी हैं। जिसका पता आपको काफी देर से लगता है।

पहले जानें स्लीप डाइवोर्स है क्या?

Sleep Separation: Separation of bedroom for a long time causes distance in relationships

जब दो लोग किन्हीं कारणों से अपने बेडरूम अलग अलग कर लें, तो उस परिस्थिति को स्लीप डाइवोर्स कहा जाता है। कोई लाइट जलाकर सोना चाहता है, तो कोई देर तक काम करने का आदी है। ऐसे में दूसरा व्यक्ति हर बार अपनी नींद से समझौता करने लगता है। पर लंबे वक्त इस समस्या से दो चार होने के बाद अक्सर पार्टनर नींद की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए अलग सोने का फैसला करते हैं। अब वे अपने लिए अलग बेडरूम की तलाश करते हैं, जिसे स्लीप डाइवोर्स कहा जाता है।

वहीं, इंटरनेशनल हाउसवेयर एसोसिएशन के मुताबिक शादी या रिलेशन के कुछ सालों बाद हर 05 में से 01 कपल अलग-अलग सोने लगता है। वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के अनुसार एक तिहाई लोग घर खरीदने से पहले दोहरे मास्टर बेडरूम की तलाश करते हैं। अलग-अलग सोना कुछ समय के लिए तो फायदेमंद है लेकिन लंबे वक्त तक अगर इसी रूटीन को फॉलो किया जाए, तो इसका खामियाजा आपके रिश्तों को उठाना पड़ सकता है।

आखिर क्यों बढ़ने लगे हैं स्लीप डाइवोर्स के केस

इस बारे में एक्सपर्ट का कहना है कि नींद हमारे मानसिक स्वास्थ्य की बुनियाद है। नींद की गुणवत्ता में सुधार लाने से व्यक्ति तनाव, चिंता और डिप्रेशन से बचा रहता है। अगर आप पूरी नींद लेते हैं, तो उससे पार्टनर के साथ व्यवहार में भी बदलाव आने लगता है। न केवल कम्यूनिकेशन बेहतर होने लगता है बल्कि व्यक्ति को पर्सनल स्पेस मिलने लगता है। मगर कहीं न कहीं इससे रिलेशनशिप में चेंजिज़ आने लगते हैं। जहां सेक्सुअल लाइफ पर विराम लग जाता है, तो वहीं इमोशनल कनेक्शन लॉस होने लगता है। व्यक्ति इनसिक्योर फील करने लगता है।

जानें स्लीप डाइवोर्स के साइड इफे्क्टस

1 आपस में इमोशनल कनेक्शन का लॉस होना

Sleep Separation: Separation of bedroom for a long time causes distance in relationships

बढ़िया नींद पाने के लिए स्‍लीप डिवोर्स इन दिनों खूब ट्रेंड में हैं लेकिन दिनभर की दौड़भाग के बाद व्यक्ति अपने पार्टनर से अपनी दिनचर्या को साझा करता है और अपने अनुभव भी शेयर करता है। अकेले सोने से व्यक्ति उन सभी चीजों से वंचित रह जाता है। दरअसल, आपको सुनने वाला व्यक्ति आपके आसपास नहीं रहता है। इससे दो लोगों के मध्य बनने वाला इमोशनल कनेक्शन लॉस होने लगता है।

2 रिश्तों में इंटिमेसी की कमी

टचिंग, किसिंग, कडलिंग और स्पूनिंग पार्टनर के साथ रिश्ते को मज़बूत बनाते हैं। सेपरेट स्लीप के दौरान व्यक्ति पहले पहल पार्टनर को मिस करने लगता है और फिर उसी रूटीन को फॉलो करने लगता है। इससे सेक्सुअल लाइफ प्रभावित होती है, जिससे कुछ लोग तनाव का सामना करने लगते हैं।

3 अकेलेपन में इजाफा

स्लीप क्वालिटी को बढ़ाने के लिए अक्सर कपल्स स्लीप डाइवोर्स को अपनाते हैं। मगर दूर दूर सोने से व्यक्ति खुद को अकेला महसूस करने लगता है। इससे संबधों में दूरियां बढ़ने लगती है और ये मिसअंडरस्टैंडिग का कारण भी बन जाता है। दरअसल, स्लीप डाइवोर्स में लोग खुद को इनसिक्योर समझने लगते हैं।

4 टूट भी सकता है रिश्ता

कई रिसर्च में यह बात सामने आई है कि जो जोड़े एक साथ बिस्तर शेयर करते हैं, उनमें मनमुटाव या विवाद के सुलझने की संभावनाएं ज्यादा होती हैं। जबकि अलग-अलग सोने वाले जोड़े एक ही मुद्दे पर लंबे समय तक झगड़ते रह सकते हैं। ऐसे में रिश्ता टूटने या किसी एक या दोनों के कहीं ओर स्पेस तलाशने का जोखिम ज्यादा बढ़ जाता है।

अच्छी नींद और कम्फर्ट के लिए अलग सो रहे हैं, तो इन बातों का रखें खास ध्यान

  • एक साथ समय कब बिताना है, इस बारे में जरूर बात करें और उस रुटीन को फॉलो करें।
  • मी टाइम के साथ-साथ वी टाइम के महत्व को समझते हुए उसे साथ बिताने के बारे में भी प्लान करें। इससे साथ का अहसास बना रहता है।
  • वीकेण्ड पर स्लीप डाइवोर्स से ब्रेक लें। इससे रिश्तों में संतुलन को बनाए रखने में मदद मिलती है और फिज़िकल इंटिमेसी बनी रहती है।
  • अलग-अलग कमरों में सोते हैं और किसी मसले पर विवाद है, तो उस पर बात करने का समय निकालें। उसे जल्द से जल्द सुलझाने का प्रयास करें।
  • गैजेट्स को बेडरूम से बाहर रखें। यह आपकी नींद और रिश्ते दोनों के लिए ही अच्छा है।
Valentine Day Special: Do not give these 5 gifts to your partner even by mistake

Valentine Day Special: किसी भी स्पेशल मौके पर हम अपने खास दोस्त, परिजन और अपने पार्टनर को गिफ्ट देना पसंद करते हैं। खासकर Couples को एक दूसरे को तोहफा देना पसंद होता है। ऐसे में गिफ्ट देने के लिए काफी कुछ है और हम हमेशा गिफ्ट देने के लिए कोईकोई नया तरीका ढूंढते हैं। और अक्सर अपने साथी के लिए सबसे बढ़िया गिफ्ट देना चाहते हैं। पर कई बार जाने अनजाने में हम ऐसी गिफ्ट भी दे देते हैं जो वास्तु के अनुसार नहीं देना चाहिए।

आप ठीक समझे, ऐसी कई गिफ्ट हैं जो वस्तु के मुताबिक नहीं देना चाहिए या घर में इस तरह की गिफ्ट नहीं रखनी चाहिए। इस वजह से कपल्स के बीच अक्सर लड़ाई की नौबत आ सकती है। साथ ही इस तरह की गिफ्ट देना अशुभ भी माना जाता है। अगर आप भी अपने पार्टनर को कोई गिफ्ट देने का मन बना रहे हैं तो पहले समझ लें कि किस तरह की गिफ्ट नहीं देना चाहिए।

1. गिफ्ट में परफ्यूम देना: ज्यादातर कपल्स एक दूसरे को परफ्यूम देना भी पसंद करते हैं। परफ्यूम बहुत खास गिफ्ट है और एक प्रीमियम चॉइस भी है। पर वास्तु के मुताबिक परफ्यूम भी गिफ्ट में नहीं देनी चाहिए। इस तरह की गिफ्ट देने से रिलेशन में डिसटेंस आ सकती है।

2. जूते गिफ्ट करना:

Valentine Day Special: Do not give these 5 gifts to your partner even by mistake

लड़कियां कई बार लड़कों को जूते देना पसंद करती हैं। लड़कों के लिए जूते देना एक उम्दा गिफ्ट है क्योंकि ज्यादातर लड़कों रो बढ़िया जूते पहनना बहुत अच्छा लगता है। वास्तु शास्त के मुताबिक जूते नकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक हैं। बता दें कि कई मुल्कों में भी जूते देने का प्रचनल नहीं के बराबर है।

3. रुमाल गिफ्ट में देना: अक्सर देखा गया है कि लोग खूबसूरत और अट्रैक्टिव रुमाल भी गिफ्ट करना पसंद करते हैं। जबकि वास्तु के मुताबिक रुमाल भी गिफ्ट नहीं करना चाहिए। रुमाल गिफ्ट करने से आपकी दोस्ती या रिश्ते में दरार आ सकती है। हिंदू मान्यता के अनुसार रुमाल या टावेल जैसी चीजें गिफ्ट नहीं की जाती हैं।

4. काले कपड़े गिफ्ट ना करें: Black कपड़े सभी पर जचते हैं लेकिन वास्तु के मुताबिक काले कपड़े भी गिफ्ट नहीं करना चाहिए। काला रंग भी नकारात्मक इनर्जी का प्रतीक है। अगर आप अपने पार्टनर को काली शर्ट या काला कुर्ता तोहफे में देने का सोच रहे हैं तो ऐसा करने से बचें। काले रंग की जगह आप दूसरे गहरे रंग के कपड़े चुन सकते हैं।

5. ताजमहज उपहार में ना दें: कई दफा एक खूबसूरत गिफ्ट देने के लिए लोग ताजमहल गिफ्ट करना पसंद करते हैं। ताजमहल बहुत खूबसूरत उपहार है और इसे घर में रखना काफी अच्छा लगता हैलेकिन ताजमहल ना ही गिफ्ट करना चाहिए और ना ही अपने घर में रखनी चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि ताजमहल मुमताज का मकबरा है। मकबरा और कब्र जैसी चीजें नकारात्मक ऊर्जा प्रवाह करती हैं इसलिए इसे घर में भी सजा कर नहीं रखना चाहिए।

फोटो सौजन्य- गूगल

Take care of these 5 things for better climax on bed

अपनी Sex Life को एंजॉय करना है और उसे खास क्लाइमैक्स से रूबरू कराना चाहती हैं तो सबसे पहले जाने कि वो कौन सा बेहतर तरीका है, जो बेड पर बेहतर क्लाइमैक्स में आपकी मदद कर सकती है। सेक्स लाइफ को मज़ेदार बनाने के लिए नए प्रयोग करने बेहद ज़रूरी है। इससे बोरिंग लाइफ को आसानी से स्पाइस अप किया जा सकता है। उम्र के साथ साथ कपल्स में दूरी आने लगती है। इस दूरी को मिटाने के लिए नई सेक्स पोज़िशन्स से लेकर एक दूसरे की मर्जी को जानना भी ज़रूरी है। अगर आप अपनी सेक्स लाइॅफ को एजॉय करना चाहते हैं और उसे बेहतर क्लाइमैक्स तक पहुंचाना चाहती हैं, तो कुछ खास बातों का ख्याल रखना ज़रूरी है। जानते हैं कि वो कौन सी टिप्स है, जो बेड पर बेहतर क्लाइमैक्स में आपकी मदद कर सकती है।

वेनेरोलॉजिस्ट का कहना है कि क्लाइमैक्स वो क्षण होते हैं, जब सेक्सुअल इंटिमेसी के वक्त आप खुशी, आनंद और एक्साइटमेंट का एहसास करते है। पार्टनर के साथ सेक्सुअली एगेंज होने और मास्टरबेशन के वक्त आर्गेज्म हासिल होती है। कई लोग एक ही वक्त में बार बार आर्गेज्म को महसूस करते हैं, जो सेक्सुअल लाइफ को रोमांचक बना देता है। जानते हैं कुछ ऐसी ही बातें, जो आपके क्लाइमैक्स को यादगार बना सकती है।

वे टिप्स जो यौन आनंद को आसान और चरम तक पहुंचाने में आपकी मदद कर सकते हैं

डर्टी टॉक के हैं जबरदस्त फायदे

Sexual intimacy helps in recovering from loneliness and depression

सेक्स के दौरान प्लैजर में इजाफा और क्लाइमेक्स तक पहुंचने के लिए डर्टी टॉक भी ज़रूरी है। इसमें आप अपनी इच्छाओं को ज़ाहिर कर सकते हैं। कौन सी पोज़िशन आपको सुखद लगती है। इस बारे में अपने पार्टनर से अवश्य बात करें। कम्यूनिकेशन आपकी सेक्स लाइफ को स्पाइस अप कर सकता है। इससे दोनों में प्यार और एक दूसरे के प्रति लगाव भी बढ़ने लगता है।

ये भी ट्राई करे-

ल्यूब्रिकेंटस का करें इस्तेमाल

लेट नाइट सेक्स को एजॉय करने के लिए ल्यूब्रिकेंटस का प्रयोग भी फायदेमंद साबित होता है। नेचुरल ल्यूब्रिकेंटस के तौर पर आप एलोवेरा और विटामिन ई का प्रयोग भी कर सकते हैं। इन्हें जेनिटल्स पर अप्लाई करके आप लंबे वक्त तक सेक्स का आनंद उठा सकते हैं। इसके ज़रिए आप डीप पेनिटरेशन का मज़ा ले सकते हैं। इससे यौन सबंध बनाने में आपको आसानी भी होगी।

फोरप्ले है बेहतर क्लाइमेक्स की कुंजी

7 common life mistakes that can ruin your sex life

फोरप्ले की मदद से सेक्स लाइफ और भी एक्साइटिड होने लगती है। दोनों लोग किसिंग और लिक करने से उत्तेजित होते जाते हैं, जो सेक्स को चरम तक पहुंचाने में मदद करता है। लोग फोरप्ले के लिए आइसक्रीम, चॉकलेट और आइसक्यूब्स समेत कई चीजों का प्रयोग करते हैं। पेट के निचले हिस्से से लेकर, निपल्स और आर्मपिटस हर जगह किसिंग का अनुभव करते हैं। इससे आपका तन और मन दोनों शांत होने लगते हैं।

प्लेजर ज़ोन को एक्सपलोर करना सीखें

इस बात को आप जानें कि शरीर के कौन से अंग में आप उत्तेजना का अनुभव करती हैं। इस बारे में एक्सपर्ट का कहना है कि आपके शरीर का हर अंग प्लेजर ज़ोन है। ऐसे में वो बातें या मूव्स जो आपको आनंदित करते है। उन्हें सेक्स के दौरान ज़रूर शामिल करें। इससे सेक्स टाइम न केवल बढ़ेगा बल्कि आप आसानी से क्लाइमेक्स तक पहुंच पाएंगे।

नई सेक्स पोज़िशन का करें प्रयोग

सेक्स को एजॉय करने के लिए उसमें न्यूनेस लाना ज़रूरी है। ऐसे में नई सेक्स पोज़िशन्स को अपने पार्टनर की सहमति से ज़रूर ट्राई करें। इससे सेक्सुअल लाइफ में उत्तेजना बढ़ने लगती है। आप खुशी का अनुभव करते है और रिश्तों में एक्साइटमेंट बढ़ जाती है। आप हर पल को एजॉय करते हैं। इसके कारण आप मेंटल तौर पर भी हेल्दी रहते हैं।

आपसी रिश्तों की गहराई को परखने के लिए Intimacy का अहम रोल होता हैै। इंटिमेसी का मतलब सिर्फ फिजिकल इंटिमेसी ही नहीं है, बल्कि यह अलग भी हो सकती है। अब जब समय और समाज बदल रहा है, तब महिलाएं और पुरुष दोनों ही रिश्ते में जुड़ाव के अलग-अलग वजह को भी समझने लगे हैं।

रिलेशन को समझने और परखने के लिए और दूसरे को समझने के लिए एक-दूसरे के साथ जुड़ना बहुत जरूरी होता है। इंटिमेसी एक ऐसी जरूरत है जो किसी भी रिलेशन को और मजबूत बना सकती है। असल मे इंटिमेसी ही एक-दूसरे की चाहत, इच्छाओं, जरूरतों को ज्यादा बेहतर तरीके से समझने में मदद करती है।

डॉक्टरों का कहना है कि इंटिमेसी किसी भी रिश्ते का एक महत्वपूर्ण पहलू है। यह दो लोगों के बीच गहरे, भावनात्मक संबंध को दर्शाता है। यह शारीरिक निकटता से परे है और इसमें बंधन और विश्वास के अलग-अलग आयाम शामिल हैं।

8 तरह की इंटिमेसी हो सकती है किसी भी रिश्ते की मजबूती और लंबे चलने की वजह

1.इमोशनल इंटिमेसी

7 common life mistakes that can ruin your sex life

डॉक्टरों के मुताबिक इस तरह की इंटिमेसी में एक-दूसरे की भावनाओं, विचारों और कमजोरियों को साझा करना और समझना शामिल है। बिना किसी फैसले के भावनाओं को व्यक्त करने के लिए खुले संचार, सहानुभूति और एक सुरझित स्थान की आवश्यकता होती है।

2. फिजिकल इंटिमेसी

फिजिकल इंटिमेसी में पार्टनर में शारीरिक नजदीकियां और निकटता शामिल है। इसमें गले लगाना, हाथ पकड़ना, किस और सैक्सुअल इंटिमेसी जैसी गतिविधियां शामिल है।

3. बौद्धिक इंटिमेसी

बौद्धिक इंटिमेसी विचारों, आइडिया और बौद्धिक उत्तेजना के आदान-प्रदान पर निर्मित होती है। इसमें गहन बातचीत में शामिल होना, हितों पर चर्चा करना और एक-दूसरे की बौद्धिक गतिविधियों का सम्मान करना निहित है।

4. आध्यात्मिक इंटिमेसी

What is the opinion of people on sex before and after marriage in India, here came a shocking survey

आध्यात्मिक इंटिमेसी (Spiritual Intimacy) का संबंध आध्यात्मिक या दार्शनिक स्तर पर जुड़ने से है। इसमें विश्वास, वैल्यू और मकसद की भावना को शेयर करना शामिल है। इस तरह की अंतरंगता को साझा आध्यात्मिक प्रथाओं, ध्यान या आध्यात्मिकता के बारे में सार्थक चर्चाओं में शामिल होने के माध्यम से पोषित किया जा सकता है।

5. मनोरंजक इंटिमेसी

मनोरंजन इंटिमेसी में गतिविधियों और शौक को एक साथ शामिल करना शामिल है। इसमें साझा फिलिंग्स भी निहित है। जैसे- खेल खेलना, साहसिक यात्रा पर जाना, फिल्में देखना या सामान्य रुचियों को अपनाना। आनंददायक गतिविधियों में शामिल होने से संबंध मजबूत हो सकते हैं और साझा यादें बन सकती हैं। फिजिकल टच इंसानों के बीच भावनात्मक संबंध को मजबूत कर सकता है।

6. रचनात्मक इंटिमेसी 

रचनात्मक इंटिमेसी में एक-दूसरे की रचनात्मकता को व्यक्त करना और उसकी सराहना करना शामिल है। यह एक साथ कलात्मक प्रयासों में शामिल होने के माध्यम से हो सकता है, जैसे- पेंटिंग, लेखन, खाना बनाना या संगीत बनाना। एक-दूसरे की रचनात्मक अभिव्यक्ति को प्रोत्साहित करना और समर्थन करना बंधन को मजबूत कर सकता है।

7. विश्वास की इंटिमेसी 

If you don't like something between two different minded people

डॉक्टरों के मुताबिक विश्वास की इंटिमेसी आपसी विश्वास, ईमानदारी और विश्वसनीयता पर बनी होती है। इसमें एक-दूसरे के प्रति संवेदनशील होना, वादे निभाना और गोपनीयता बनाए रखना शामिल है। विश्वास भावनात्मक सुरक्षा के लिए आधार प्रदान करता है और जुड़ाव की गहरी भावना को बढ़ावा देता है।

8. अनुभवात्मक इंटिमेसी 

अनुभवात्मक इंटिमेसी जीवन के खास अनुभवों और माइलस्टोन को शेयर करने के बारे में है। इसमे अहम घटनाओं के दौरान एक-दूसरे के लिए उपस्थित रहना, चुनौतियों के माध्यम से एक-दूसरे का समर्थन करना और उपलब्धियों का एक साथ जश्न मनाना निहित है। लाइफ के उतार-चढ़ाव को शेयर करने से भावनात्मक संबंध गहरा हो सकता है।

Sometimes even a small difference between husband and wife is important

आप सभी जानते हैं कि किसी के साथ रिलेशन में आना काफी आसान होता है पर उस रिश्ते को जिंदगी भर शिद्दत से निभाना बहुत ही मुश्किल होता है। यह कहना गलत नहीं होगा कि पुराने जमाने के लोगों में रिश्ते को लेकर गंभीरता होती थी। वह अपने रिलेशन को बचाने के लिए हर जरूरी प्रयास करते थे।

हैरानी और दुख की बात यह है कि आजकल इंसानों के लिए रिलेशन भी किसी खेल से कम नहीं है। बल्कि दुनिया में सब ऐसे नहीं हैं। लेकिन कई कपल्स ऐसे हैं जो आज भी ऐसे रिश्ते में जी रहे हैं, जहां उनका पार्टनर उन्हें मानसिक तौर पर खूब हानि पहुंचा रहा है। पर इसके बावजूद वह उस रिश्ते को निभाने का पूरा प्रयास में जुटे हैं।

नए जमाने की बात करूं तो ऐसे रिश्तों को ‘Toxic Relationship’ के नाम से जाना जाता है। इस लेख में आप जानेंगे कि क्या साइन हैं कि जिससे आप जान सकते हैं कि आपका रिश्ता टॉक्सिक है।

टॉक्सिक रिलेशनशिप के साइन (Toxic Relationship Signs)

1. हमेशा बुराई करना

आपका पार्टनर लगातार आपको नीचा दिखाता है, आपकी उपस्थिति, क्षमताओं या निर्णयों की आलोचना करता है और आपके आत्मसम्मान को लगातार कम करने की कोशिश करता है।

2. कंट्रोल और चालाकी करना

आपका पार्टनर आपके कामों को कंट्रोल करने की कोशिश करता है, आपको दोस्तों और परिवार से अलग करते है। आपको क्या पसंद है वह भी वही तय करता है या फिर आप पर हद से ज्यादा हक बनाए रखने के लिए गिल्ट-ट्रिपिंग जैसी चालाकियों को आपके साथ करता है।

3. विश्वास न करना

मिसिंग कम्यूनिकेशन

आपका पार्टनर कम विश्वास करने लगता है। जलन और रोजाना नए आरोप लगता है। बिना बताए आपका पार्टनर आपका फोन, ईमेल और बाकी सोशल मीडिया हैंडेल चेक करता हो। उसे आपके हर अगले कदम पर एक शक बना रहता है।

4. इमोशनल और फिजिकल एब्यूज

रिलेशनशिप में मार-पिटाई होना यह बिल्कुल साफ करता है कि आप एक टॉक्सिक रिश्ते में है लेकिन, इमोशनल एब्यूज भी यह दिखाता है कि रिश्ता खत्म होने का कगार पर पहुंच चुका है। इसमें पार्टनर को लगातार नीचा दिखाना, अपमान करना, धमकी देना, ऐसे बर्ताव जिससे आपको दुख पहुंचता हो।

5. दूसरों संग बर्ताव

इस बात पर ध्यान दें कि आपका साथी दूसरों के साथ कैसा व्यवहार करता है, जैसे कि दोस्त, परिवार या उसके साथ काम करने वाले। यदि वे लगातार दूसरों को नीचा दिखाते हैं, उनका अनादर करते हैं या उनके साथ दुर्व्यवहार करते हैं। तो यह संकेत हैं कि उनका बर्ताव टॉक्सिक है।

6. छोटी छोटी बातों पर झगड़ा

गुस्से में पत्नी

अगर आपका पार्टनर हर किसी बात को लेकर लड़ाई करता है। छोटी सी छोटी बात को बहुत बड़ा बना देता। तो इससे यह साबित होता है कि वह न तो खुद खुश रह सकता है और न वो आपको रख सकता है।

7. गलत इमेज बनाना

अगर आपका पार्टनर अपने परिवार और दोस्तों के बीच आपकी गलत इमेज बनाता है। साथ ही यह दिखाता है कि आपको न तो रिश्ते की कदर है न उसकी। तो आपको इस बारे में जरूर सोचना चाहिए।

8. फैसले की घड़ी

इन तमाम बिंदुओं में कही बातें अगर आपके और आपके पार्टनर से मिलती-जुलती हैं तो आपको या तो आराम से रिश्ते में सुधार को लेकर बात करनी चाहिए है या फिर सब कुछ भूलकर जिंदगी में आगे बढ़ जाएं।

फोटो सौजन्य- गूगल

Get beautiful and soft lips in few minutes

Chanakya Niti : आचार्य चाणक्य ने भी अपनी नीतामाला में वैवाहिक जीवन को खुशहालl बनाने के लिए बहुत कुछ लिखा है। कई बार ऐसा होता है कि महिलाएं अपने पति से संतुष्ट नहीं होती हैं और पति को इस बात की भनक भी नहीं होती।

चाणक्य नीति के बारे में आज हर कोई जानता है। चाणक्य को महान ऐसे ही नहीं कहा गया है। उनकी कही बातें आज भी लोग अपने जीवन में उतारते हैं। ऐसे करने वाले हमेशा सुखमय जीवन व्यतीत करते हैं। सुखी जीवन के लिए आचार्य चाणक्य नीति की बातें बेहद जरूरी हैं। आज भागमभाग में हम कई ऐसी बाते भूल जाते हैं जो बेहद जरूरी होती हैं और उनके बिना हम अपनों को न चाहते हुए भी ठेस पहुंचा देते हैं।

ऐसे में चाणक्य नीति को फॉलो करना जरूरी हो जाता है। आचार्य चाणक्य ने अपनी नीति में शादीशुदा जीवन को सुखमय बनाने के लिए भी कई बातें लिखी हैं। कई बार ऐसा होता है कि औरतें अपने पति से संतुष्ट नहीं होती और पति को इस बारे में पता नहीं चल पाता। आइये बताते हैं पत्नियां जब असंतुष्ट होती हैं तो उनका क्या इशारा होता है-

चाणक्य नीति में महिलाओं के ऐसे इशारों के बारे में बताया गया है जो वे असंतुष्ट होने पर करती हैं। इन इशारों को भांप कर कोई भी पति अपनी पत्नी को संतुष्ट कर सकता है। पत्नी की नाराजगी को दूर करने के लिए चाणक्य नीति की इन बातों का जरूर ध्यान देना चाहिए।

बात ज्यादा ना करना

Love in Kitchen

पत्नियों को बातूनी भी कहा जाता है जब पत्नी बहुत खुश होती है तो अपने पति बहुत ज्यादा बात करती है कभी तो पति को कहना पड़ता है कि बस करो कितना बोल रही हो। अगर आपकी पत्नी भी बहुत बातें करती है और अचानक शांत हो जाए तो समझ जाइये कि वह असंतुष्ट है।

यानी आपकी किसी बात से वह नाराज है। कम बात करना पत्नियों के असंतुष्टि बारे में इशारा करता है। ये संकेत मिलते ही आप अपनी पत्नी से बात करिये और जानिये कि वह किस बात से परेशान है। ऐसा करने से वह बात आप से शेयर करेगी और फिर पहले की तरह हो जाएगी।

पति को कभी नाराज नहीं करना चाहती पत्नियां

These foods play an important role in controlling hormones

यह सब जानते हैं कि पत्नियों के लिए पति कितनी अहमियत रखते हैं। पत्नी अपने पति को कभी नाराज नहीं करना चाहती. ऐसे में अगर पत्नी आपसे झुंझलाने लगे यानी बात पर झगड़ा करे और गुस्सा करे तो समझ जाइये कि वो किसी न किसी बात को लेकर असंतुष्ट है। इस इशारे को ध्यान में रखकर आपका अगला कदम पत्नी को खुश करने के लिए होना चाहिए।

बस अपने बारे में सोचना

पत्नियों के बारे में कहा गया है कि वे अपने पति के हर जरूरत का ख्याल रखती हैं। अगर आपकी पत्नी अचानक आपसे दूरी बना ले या आपको लगे कि वो सिर्फ अपने बारे में सोच रही है और आपका ख्याल नहीं रख रही है तो आपको समझ लेना चाहिए कि वह किस न किसी बात से असंतुष्ट है।

हो सकता है कि वह आपकी किसी बात से नाराज हो, आपको इसे ध्यान में रखते हुए पत्नी से तसल्ली से बात करनी चाहिए। उसकी समस्या को समझकर उसकी परेशानी को दूर करना चाहिए। ऐसा करने आपकी पत्नी को संतुष्टि मिलेगी और वह फिर पहले की तरह आपसे करीब हो जायेगी।

Sex संबधों में सक्रियता न होना intimacy की कमी को दर्शाता हैं। सेक्स लाइफ को मज़ेदार बनाने के लिए दोनों लोगों का प्रयासरत होना ज़रूरी है। जानते हैं, वो टिप्स जो सेक्सुअल लाइफ को हेल्दी बनाकर रखती हैं।

छोटे छोटे लम्हों में भी खुशी की तलाश कर लेना रिश्ते में खुशहाली को बढ़ा देता है। शुरूआत में हर कपल के बीच सेक्सुअल रिलेशनशिप एक स्पार्क से आरंभ होता है लेकिन बदलते हालात और जिम्मेदारियां हमारे लाइफ में से खुशी और सेक्स ड्राइव को कम करने लगती है। सेक्स लाइफ को हैप्पी और हेल्दी बनाने के लिए दोनों लोगों का प्रयासरत होना ज़रूरी है। लिबिडो बूस्टिंग (Libido boosting) के लिए यूं तो कई प्रोडक्टस और सप्लीमेंटस मौजूद हैं। मगर अलावा इसके कुछ ऐसी बातों का जानना ज़रूरी है, जो हमारी सेक्स लाइफ को खुशहाल बनाने में मददगार होती है।

NCBI के एक रिसर्च में पाया गया है कि यौन संबधों का प्रभाव हमारी सेहत पर भी दिखने लगता है। वे महिलाएं, जो सेक्सुअल रिलेशनशिप (Sexual relationship) में खुशी का अनुभव नहीं करती है। वे हाइपरटेंशन का शिकार हो जाती हैं। दूसरी ओर पुरूष तनाव और एंगजाइटी से ग्रस्त रहते हैं। रिसर्च में पाया गया है कि ओवरऑल लाइफ की क्वालिटी को निखारने के लिए सेक्स बेहद ज़रूरी है।

Sex life

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक सेक्सुअल हेल्थ और यौन संबधों के लिए पॉजिटिव और रिस्पेक्टफुल अप्रोच की आवश्यकता होती है। अलावा इसके जबरदस्ती, भेदभाव और हिंसा से मुक्त हेल्दी रिलेशन बिल्ड करना चाहिए। सेक्सुअल हेल्थ मेंटेन करने के लिए सभी लोगों को सेक्सुअल राइटस की रिस्पेक्ट, संरक्षण और पूर्ति की जानी चाहिए।

जानते हैं, वो खास आदतें, जो सेक्सुअल लाइफ को हेल्दी बना सकती हैं।

1. सेक्स परफार्मेंस से ज्यादा साथ पर फोकस करना

बहुत से हैप्पी कपल्स सेक्स के दौरान सिर्फ सैटिसफेक्शन पर ध्यान नहीं देते हैं। एक दूसरे का साथ ही उनके लिए काफी होता है। उनका फोकस एक दूसरे के साथ वक्त बिताना होता है। हांलाकि सेक्स में ऑर्गेज्म को पीक तक ले जाना बेहद ज़रूरी है। हर बार इस मानसिक दबाव में सेक्स करने से आप सेक्सुअल लाइफ को एंजॉय नहीं कर पाते हैं। हैप्पी कपल्स सेक्स परफार्मेंस से ज्यादा उस समय का आनंद उठाने पर ध्यान देते हैं। इससे उनका रिश्ता मजबूत और हेल्दी होने लगता है।

इसे ट्राई करे:
2. पार्टनर को गंभीरता से लेना

जब आप अपने साथी को सेक्स के दौरान और सेक्स के बाद समय देते हैं, तो एक दूसरे में अंडरस्टैंडिंग बढ़ने लगती है। दरअसल, एक दूसरे के प्रति आर्कषण खत्म होने के बाद अधिकतर कंपल्स असंतुष्ट नज़र आने लगते हैं। उन्हें एक दूसरे की पसंद नापसंद का अब ख्याल नहीं रहता है। दूसरी ओर वो कपल्स जो एक दूसरे को प्यार करने के अलावा अच्छे दोस्त भी है, वो फीलीग्स का खास ख्याल रखते हैं। फोर प्ले से लेकर आफ्टर प्ले तक हर बात का ख्याल रखने के अलावा यौन संबधों के दौरान रोमांस भी बरकरार रहता है।

3. सेक्स लाइफ को समय देना

Some Natural Ways To Spice Up Your Sex Life

बहुत से कपल्स शादी के कुछ सालों बाद सेक्स लाइफ को लेकर सीरियस नहीं रहते हैं। उनकी सेक्सुअल लाइफ धीरे धीरे बोरिंग होने लगती है और एक समय के बाद उस पर विराम लग जाता है। इससे दोनों लोगों का जीवन तनावपूर्ण और थकान भरा होने लगता है। दिनों दिन मन मुटाव और झगड़े बढ़ने लगते हैं। कुछ कपल जो शादी के सालों बाद भी खुशहाल नज़र आते हैं, वे अपनी सेक्सुअल लाइफ को पूर्ण रूप से मेंटेन रखते हैं। वे दूसरे के लिए वक्त निकालते हैं। हांलाकि, वो कामेच्छा से ज्यादा तनाव से दूर रहने के लिए सेक्स को प्रायोरिटी देने लगते हैं।

4. बोझ नहीं है सेक्स

वे लोग जो शादी के सालों बाद सेक्स के चार्म को एंजॉय नहीं कर पाते हैं। उनके लिए यौन संबध सिर्फ एक टास्क के समान होता है। वे अब उसमें खुशी नहीं तलाश पाते हैं। इसका प्रभाव उनके रिश्ते पर दिखने लगता है। धीरे धीरे वो सेक्स को बोझ मानने लगते है। अपने रिश्ते में खुशहाली को बनाए रखन के लिए सेक्स को महज़ एक काम न समझें। उस समय के दौरान खुशी को तलाशें और पार्टनर को भी खुश रखने का प्रयास करें। इस बात को जान लें कि एक दूसरे को खुश रखने से आपके संबध मज़बूत होंगे।

5. बातों की चाशनी

पार्टनर से वार्तालाप करना हेल्दी रिलेशन मेंटेन करने के लिए बेहद ज़रूरी है। एक दूसरे से बातचीत करके आप अपनी समस्याओं को सुलझा सकते हैं। साथ ही सेक्सुअल लाइफ में आने वाने अप्स एंड डाउंस को आसानी से मिलकर हल कर सकते हैं। संवाद बहुत सारी समस्याओं का समाधान हो सकता है। सेक्स को साइलेंट अफेयर बनाने की बजाए एक-दूसरे के साथ संवाद बनाएं।