Search
  • Noida, Uttar Pradesh,Email- masakalii.lifestyle@gmail.com
  • Mon - Sat 10.00 - 22.00

Category Archives: Lifestyle

Hajj Yatra 2024: Holy Hajj pilgrimage has started

Hajj Yatra 2024: इस्लाम धर्म के 5 स्तंभों में से एक अहम स्तंभ हैं हज यात्रा। जी हां, यह हज यात्रा हर सक्षम मुसलमान के लिए जिंदगी में एक बार करना अनिवार्य होता है। यह यात्रा इस्लामी महीने जिल हिज्जा के 8वें से 12वें दिन के बीच सऊदी अरब के पवित्र शहर मक्का और उसके आसपास के पवित्र स्थलों पर की जाती है। हज का मकसद अल्लाह को खुश करना और गुनाहों की माफी हासिल करना है।

यह यात्रा न सिर्फ धार्मिक अनुष्ठानों का पालन करने का मौका देता है, बल्कि सामुदायिकता, सहयोग और भाई-चारे का भी प्रतीक होती है। हज यात्रा की विधियों और नियमों का सही तरीके से पालन करके मुसलमान अल्लाह की प्रसन्नता और बरकत हासिल कर सकते हैं. इस अवसर पर आइए जानते हैं हज यात्रा के विभिन्न चरणों और खास नियमों के बारे में।

कब तक है पवित्र हज यात्रा

Hajj Yatra 2024: Holy Hajj pilgrimage has started

हज की शुरुआत इस्लामिक महीने की 08 तारीख से होती है जो इस साल 14 जून को पड़ रही है, इसलिए इस साल 2024 में हज यात्रा 14 जून से शुरू हो रही है। हज यात्रा करने में 05 दिन लगते हैं इसलिए यह यात्रा 19 जून तक चलेगी और ईद उल अजहा( बकरीद) के साथ पूरी होती है।

हज यात्रा के 5 दिन होते हैं ये खास नियम

हज यात्रा के लिए कुछ नियम होते हैं, जिनका हाजी को पालन करना होता है। हज यात्रा के दौरान हर दिन का विशेष महत्व होता है और हर दिन अलग-अलग गतिविधियां होती है।

पहला दिन: 8वीं जिल हिज्जा

इहराम धारण करना

हाजी मक्का में इहराम धारण करते हैं और नियत (इरादा) करते हैं। इहराम धारण करने के बाद तलबिया (लब्बैक अल्लाहुम्मा लब्बैक) का उच्चारण करते हैं।

मीना की ओर प्रस्थान

हाजी मक्का से मीना की पहाड़ी ओर प्रस्थान करते हैं और मीना में पहुंचकर पांच वक्त की नमाज अदा करते हैं और रात मीना में ही बिताते हैं।

दूसरा दिन: 9वीं ज़िल हिज्जा

अराफात की ओर प्रस्थान

हाजी सुबह मीना से अराफात पहाड़ी की ओर प्रस्थान करते हैं। अराफात का दिन हज का सबसे महत्वपूर्ण दिन माना जाता है।

मुजदलिफा की ओर प्रस्थान

सूर्यास्त के बाद हाजी अराफात से मुजदलिफा की ओर प्रस्थान करते हैं। मुजदलिफा में पहुंचकर मजरीब और ईशा की नमाज एक साथ अदा करते हैं और रात भर वहीं ठहरते हैं। मुजदलिफा में हाजी 49 कंकड़ियां इकट्ठा करते हैं, जिनका इस्तेमाल अगले दिनों में जमरात यानी शैतानों को मारने के लिए किया जाता है।

तीसरा दिन: 10वीं ज़िल हिज्जा

Hajj Yatra 2024: Holy Hajj pilgrimage has started

जमरात को कंकर मारना

हाजी सुबह मुजदलिफा से मीना की ओर प्रस्थान करते हैं और मीना में पहुंचकर सबसे बड़े जमरा (शैतान) को 7 कंकड़ियां मारते हैं।

कुर्बानी

कंकड़ मारने के बाद हाजी कुर्बानी देते हैं। कुर्बानी देने के बाद पुरुष अपने सिर के बाल मुंडवाते हैं या छोटे करते हैं और महिलाएं अपने बालों का एक छोटा हिस्सा काटती हैं।

वापसी

तवाफ और सई के बाद हाजी वापस मीना लौट आते हैं और वहां रात बिताते हैं।

चौथा दिन: 11वीं ज़िल हिज्जा

जमरात को कंकर मारना

हाजी तीनों जमरात (शैतानों) को 7-7 कंकड़ियां मारते हैं। सबसे पहले छोटे जमरा, फिर मंझले जमरा और अंत में बड़े जमरा को कंकड़ियां मारी जाती है।

मीना में ठहराव

हाजी दिन भर मीना में रहकर इबादत करते हैं और रात वहीं बिताते हैं।

5वां दिन: 12वीं ज़िल हिज्जा

जमरात को कंकड़ मारना

हाजी एक बार फिर से तीनों जमरात (शैतानों) को 7-7 कंकड़ियां मारते हैं। सबसे पहले छोटे जमरा, फिर मंझले जमरा और अंत में बड़े जमरा को कंकड़ियां मारी जाती हैं।

मीना से मक्का की ओर प्रस्थान

कंकड़ मारने के बाद हाजी मीना से मक्का की ओर प्रस्थान करते हैं फिर हाजी विदाई तवाफ (तवाफ-ए-विदा) करते हैं।

छठा दिन: 13वीं ज़िल हिज्जा

जमरात को कंकर मारना

अगर हाजी चाहें तो वे 12वीं ज़िल हिज्जा यानी पांचवे दिन मिना से मक्का लौट सकते हैं, नहीं तो 13वीं ज़िल हिज्जा के दिन एक बार फिर से तीनों जमरात को 7-7 कंकड़ियां मारने का नियम हैं। इसके बाद वे मक्का की ओर प्रस्थान करते हैं और विदाई तवाफ (तवाफ-ए-विदा) करते हैं।

हज यात्रा की धार्मिक अहमियत

इस्लाम के 05 फर्ज़ में से एक फर्ज हज है। अलावा इसके चार फर्ज हैं कलमा, रोज़ा, नमाज़ और जकात। माना जाता है हज एक ऐसा फर्ज है जिसे हर सक्षम मुसलमान को अपनी जिंदगी में एक बार जरूर करना चाहिए।

फोटो सौजन्य- गूगल

Summer season is very special for intimacy

हेल्दी रिेलेशनशिप को बरकरार रखने के लिए इंटीमेसी (Intimacy) काफी जरूरी है। मौसम चाहे कोई भी हो। बता दें कि गर्मी के मौसम में अक्सर पसीना और संक्रमण इंटिमेट एरिया को प्रभावित करता है। ऐसे में इंफेक्शन का खतरा बना रहता है। जो सेक्सुअल जीवन को भी प्रभावित करने लगता है। मूड को अपलिफ्ट करके सेक्स को स्पाइसी बनाने के लिए कुछ स्पेशल टिप्स को जरूर फॉलो करें। आइये यहां जानते हैं गर्मी के मौसम में सेक्स के फायदे और नुकसान और साथ ही हेल्दी सेक्सुअल लाइफ के लिए मजेदार टिप्स-

क्यों गर्मी का मौसम है बहुत खास

हार्वर्ड मेडिकल स्टडी के मुताबिक गर्मी के मौसम में सेरोटोनिन का स्तर बढ़ने लगता है, जिससे आप रोमांटिक रिश्ते के लिए ज्यादा उत्साहित होते हैं। यह आपके लिए ज्यादा आनंददायक भी हो सकता है। दरअसल, गर्मी के दिनों में रक्त प्रवाह में बढ़ोतरी होने लगती है, जिससे यौन उत्तेजना बढ़ने लगती है।

Summer season is very special for intimacy

सूरज की तेज़ रोशनी शरीर में विटामिन-D के स्तर को बढ़ाती है। इससे कामेच्छा बढ़ने लगती है और ये मूड बुस्टर साबित होता है। दरअसल, विटामिन-D की कमी से शरीर में एस्ट्रोजन और टेस्टोस्टेरोन का स्तर प्रभावित होता है, जिसके कारण सेक्स ड्राइव कम हो जाती है।

कुछ असुविधा भी हो सकती है

गर्मी में चिपचिपाहट और वेजाइनल इंफेक्शन इचिंग, दुर्गंध और रैशेज का प्रोब्लम को बढ़ा देते हैं। इस बारे में गायनीकोलॉजिस्ट डॉ सुरभि सिंह बताती हैं कि समर्स में स्वैटिंग के चलते वेजाइना में बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। ऐसे में सेक्स के बाद जेनिटल्स की साफ सफाई का ध्यान रखना आवश्यक है।

सेक्स के दौरान खुद को हाइड्रेट रखने के साथ रूम टैम्परेचर को उचित बनाए रखें। समर्स में एलर्जी से बचने के लिए गर्मी से बचें और इंटिमेट हाइजीन को बनाए रखना ज़रूरी है। इससे यौन संबधों के दौरान प्लेजर की प्राप्ति होती है।

होम इंटीमेट हेल्‍थ प्यार के लिए भी खास होता है गर्मी का मौसम, यहां जानिए इसे और भी शानदार बनाने के टिप्स
प्यार के लिए भी खास होता है गर्मी का मौसम, यहां जानिए इसे और भी शानदार बनाने के टिप्स
बढ़ती गर्मी ने सभी का हाल बेहाल कर रखा है। गर्म लू के थपेड़े और पसीने से तर बतर देह। पर क्या आप जानते हैं कि यह मौसम आपकी रोमांटिक रिलेशनशिप के लिए बहुत खास होता है। जी हां, ये बिल्कुल सच है।

गर्मी में सेक्स को हेल्दी बनाने के लिए इन टिप्स को फॉलो करें

1. हाइड्रेट रहना हैं अहम

गर्मी के मौसम में शरीर को हाइड्रेट रखना आवश्यक है। इससे शरीर का तापमान उचित बना रहता है। सेक्स से पहले ठंडे और हेल्दी पेय पदार्थों का सेवन करें, ताकि शरीर में एनर्जी और ठंडक बनी रहती है। बॉडी हीट को मैनेज करने के लिए दिनभर में उचित मात्रा में पानी पीएं।

2. आइस क्यूब का करें इस्तेमाल

Summer season is very special for intimacy

सेक्स सेशन सिज़लिंग बनाने के लिए आइस क्यूब प्रयोग करें। फिर चाहे आरल सेक्स हो या फिर पार्टनर को प्लेजर देने के लिए रबिंग आइस क्यूब का प्रयोग करें। इससे गर्मी में ठंडक मिलने लगती है। इसके अलावा सेक्स टॉयज को भी ठंडा करके इस्तेमाल करें। इससे ऑर्गेज्म की प्राप्ति होती है।

3. रूम टेम्परेचर को रखें बरकरार

चिपचिपाहट की वजह से सेक्स के दौरान संक्रमण का खतरा बना रहता है। ऐसे में गर्मी को दूर करने के लिए एअर प्यूरी फायर, पंखे और एयरकंडीशनर से कमरे के तापमान को सामान्य बनाएं। इससे उमस का सामना नहीं करना पड़ता है। साथ ही इंटरकोर्स के दौरान बढ़ने वाली स्वैटिंग की समस्या भी हल हो जाती है।

4. शावर सेक्स है काफी फायदेमंद

स्वैटिंग से अपना बचाव करने के लिए शावर सेक्स ट्राई करें। इससे सेक्स सेशन स्पाइसी होने लगता है और शरीर में हैप्पी हार्मोन रिलीज़ होते हैं। इससे यौन जीवन में नयापन आने लगता है और बॉन्ड मज़बूत हो जाता है। गर्मी के मौसम में सेक्स के दौरान बढ़ने वाला संक्रमण का खतरा कम होने लगता है।

5. हाइजीन का रखें ध्यान

पहले और बाद में बैक्टीरिया इंफेक्शन से बचने के लिए इंटिमेट हाइजीन तो मेंटेन रखना जरूरी होता है। इससे योनि का हेल्थ भी उचित रहता है। अलावा इसके टॉयज का इस्तेमाल करने से भी हाइजीन का ख्याल रखना चाहिए, नहीं तो संक्रमण फैलने का खतरा बना रहता है।

फोटो सौजन्य- गूगल

Some special tips about female orgasm

Female Orgasm: महिलाओं में भी सेक्स को लेकर असीम डिजायर होता है लेकिन वो अपने पार्टनर से ऑर्गेज्म के बारे में खुलकर बात नहीं कर पातीं। कुछ ऐसी भी महिलाएं हैं जिन्होंने कभी ऑर्गेज्म का अनुभव नहीं किया। हालांकि, महिलाओं को पहले अपनी बॉडी से जुड़ी हर जानकारी होना अहम है, तब वे अपने पार्टनर को अपनी बॉडी एक्सप्लोर करते समय अपना प्लेजर प्वाइंट से अवगत करा सकती हैं। वहीं, कई बार महिलाओं के काफी प्रयास के बाद भी उन्हें ऑर्गेज्म नहीं आता, या फिर उन्हें ऑर्गेज्म तक पहुंचने में लंबा वक्त लग सकता है। बतां दें कि ऐसा क्यों होता है, क्योंकि महिलाएं अपना प्लेजर प्वाइंट नहीं जानती।

क्या आप जानते हैं ऑर्गेज्म भी अलग-अलग तरह के हो सकते हैं। महिलाओें के ऑर्गेज्म तक पहुंचने का तरीका अलग-अलग हो सकता है। एक्सपर्ट से जानेंगे कि महिलाएं में कितने प्रकार के ऑर्गेज्म हासिल कर सकती हैं।

यहां जानें अलग अलग प्रकार के फीमेल ऑर्गेज्म

1. G-स्पॉट ऑर्गेज्म

Some special tips about female orgasm

जी स्पॉट वेजिनल वॉल में अंदर की तरफ होता है। यह आपकी वेजाइनल ओपनिंग और सर्विक्स के बीच होता है। कुछ शोधकर्ताओं का तर्क है कि यह एक यौन अंग है, जबकि अन्य मानते हैं, कि यह क्लीटोरिस के नर्व एंडिंग के नेटवर्क का हिस्सा है। जी-स्पॉट सेक्स अन्य तरह के सेक्स की तुलना में काफी तीव्र महसूस होते हैं।

2. ब्लेंडेड ऑर्गेज्म

ब्लेंडेड ऑर्गेज्म वे क्लाइमैक्स है, जो एक समय में एक से अधिक एरोजेनस जोन के उत्तेजित होने पर प्राप्त होती है। क्लिटोरिस, जी-स्पॉट, निप्पल जैसे कामुक क्षेत्रों का कोई भी संयोजन मिश्रित ऑर्गेज्म की ओर ले जा सकता है।

3. वेजाइनल ऑर्गेज्म

क्लिटोरिस के अलावा, योनि में अतिरिक्त उत्तेजक जोन होते हैं। ए-स्पॉट, या एंटीरियर फोर्निक्स, सर्विक्स के ठीक नीचे योनि की उच्च सामने दीवार पर स्थित है। इस क्षेत्र को सही तरीके से छूने पर एक डीप वेजाइनल सेक्स ट्रिगर हो सकता है। कुछ महिलाएं सर्विक्स के स्टिम्युलेट होने से भी ऑर्गेज्म प्राप्त कर लेती हैं। क्योंकि इन क्षेत्रों में नर्वस के साथ लिगामेंट होते हैं, जो अत्यधिक संवेदनशील हो सकते हैं।

4. निप्पल ऑर्गेज्म

Some special tips about female orgasm

आपके ब्रेस्ट और निप्पल ज्यादातर महिलाओं के एरोजेनस जोन होते हैं, इसलिए उन क्षेत्रों को उत्तेजित करके ऑर्गेज्म प्राप्त करना संभव है। निप्पल विशेष रूप से छूने पर प्रतिक्रिया करती है, क्योंकि उनमें कई नर्व एंडिंग होती हैं।

5. क्लिटोरल ऑर्गेज्म

क्लिटोरिस एक यौन अंग है, जो योनि के बाहरी भाग पर एक छोटे से उभरे हुए टिशु की तरह दिखती है, लेकिन यह आपकी योनि में भी आंतरिक रूप से फैली हुई होती है। यह लाखों नर्व एंडिंग से बनी होती है, जो इसे उत्तेजना के प्रति विशेष रूप से संवेदनशील बनाते हैं। क्लिटोरिस को सीधे उत्तेजित करने या क्लिटोरिस के आस-पास के लेबिया को छूने से उस क्षेत्र में ब्लड फ्लो बढ़ जाता है, जिससे क्लिटोरिस फूल जाता है और उसे ऑर्गेज्म की आवश्यकता होती है। इस प्रकार आप अपनी क्लिटोरी को स्टिमुलेट कर आर्जेम प्राप्त कर सकती हैं।

6. मल्टीपल ऑर्गेज्म

महिलाएं मल्टीपल ऑर्गेज्म का अनुभव कर सकती हैं, क्योंकि उन्हें ऑर्गेज्म और उत्तेजना के बीच बहुत अधिक समय की आवश्यकता नहीं होती है।

7 common life mistakes that can ruin your sex life

आप भी अपने Partner से जुदा-जुदा रहती हैं क्या? कभी-कभी ऐसा फील होता है क्या कि रिश्ते में कटास आ गई है? आप अगर अपने रिश्ते को परवान चढ़ाते हुए लंबा ले जाने का रास्ता तलाश रही हैं तो आप एकदम सटीक जगह पर हैं। हकीकत में तेज रफ्तार लाइफ में जितनी तेजी से रिश्ते बनते हैं उनके टूटने का भय भी उतना ही अधिक रहता है। खासतौर से लंबे रिलेशनशिप में रहना किसी के लिए भी इमोशनल अत्याचार बन सकता है। जिससे आप मुहब्बत करती हैं उससे इतने लंबे वक्त तक दूर रहना आपको एक इमोशनल रोलरकोस्टर राइड पर ले जाने के लिए काफी है। जिसमें एक समय खुशी और दूसरे समय गम के गुबार हो सकते हैं। इसलिए ऐसे मसले में आपको अपनी भावनाओं और अपने रिश्ते को काफी प्यार और देखभाल के साथ संभालने की आवश्यकता है।

यह सुनिश्चित करना भी बहुत जरूरी है कि आपके बीच की शारीरिक दूरी भावनात्मक दूरी और गलतफहमी में ना तब्दील हो जाए। लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप में आप दोनों अलग-अलग वक्त पर चीजें करते हैं क्योंकि कई जगहों पर समय का भी अंतराल होता है। ऐसे में एक दूसरे से संपर्क में रहना भी मुश्किल हो जाता है। तो चलिए जानते हैं कि आप अपने लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप को कैसे बेहतर बना सकते है।

आईये जानें कैसे लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप को मजबूत और आनंददायक बनाया जा सकता है-

1. रोमांटिक वर्चुअल डेट नाइट्स का करें प्लान

सिर्फ जन्मदिन या सालगिरह पर कभी-कभार डेट करने के बजाय, अक्सर अपने प्यार का जश्न मनाए। एक वर्चुअल डेट रखें। ऐसा दिन और समय चुनें जो आप दोनों के लिए सुविधाजनक हो और अपना खास ध्यान अपने विशेष व्यक्ति पर उसी तरह लगाएं जैसे आप फिजिकल डेट पर करते हैं। थोड़े से प्रयास से वर्चुअल डेट को खास बनाया जा सकता है।

सुनिश्चित करें कि आपका इंटरनेट कनेक्शन अच्छा है ताकि आपकी डेट नाइट में कोई बाधा ना आ सके। क्योंकि बाधा आप दोनों के मूड को चेंज कर सकती है।

2. इंटिमेट मैसेज से उन पल का लें मजा

Some Natural Ways To Spice Up Your Sex Life

अगर आप अपने प्यार का इज़हार आपस में जुड़े होठों और आपस में उलझी उंगलियों से नहीं कर सकते तो निराश न हों। इंटिमेट मेसेज भेजना उन चीज़ों को महसूस करने में आपकी मदद करता है।

अपने पिछले इंटिमेट अनुभव पर बात कर सकते हैं और उसे फिर से जी सकते हैं, धीरे-धीरे अपना ध्यान अपनी कल्पनाओं पर फोकस कर सकते हैं।

3. एक सरप्राइज विजिट प्लान कर सकते हैं

आप अपने पार्टनर से मिलने के लिए एक सरप्राइज़ यात्रा कर सकते हैं उन्हें बिना बताए आप उन्हें मिलने के लिए उनके घर पहुँच सकते हैं। जिससे देख कर वह काफ़ी ख़ुश हो सकते हैं। इसके लिए आप एक योजना बनाएं जिसमें आपके पार्टनर को ये पता न चले कि आप उनसे मिलने आ रही है।

इस तरह के सरप्राइज़ आपके पार्टनर को यह महसूस करा सकते हैं कि वे आपके लिए ज़रूरी है कि इससे उन्हें खास फ़ील करने में भी मदद मिल सकती है। क्योंकि आप एक दूसरे से काफ़ी समय से दूर हैं जिसकी वजह से इमोशनल कनेक्शन ख़त्म हो सकता है। इस तरह के सरप्राइज़ विज़िट उन्हें फिर से इमोशन बनाए रखने में मदद कर सकते हैं।

4. उन्हें सरप्राइज़ देने के लिए कोई स्किल सीखें

आप गिटार पर एक रोमांटिक गाने की दिल को गुनगना देने वाली धुन बजाना सीख सकते हैं और अपने अगले वीडियो कॉल पर अपने पार्टनर को सरप्राइज़ कर सकते हैं। एक नृत्य, एक पेंटिंग, या एक स्केच भी आपको उनकी आँखों में चमक देखने में मदद कर सकता है। अपने साथी को बताएं कि वे आपके लिए एक प्यारी आदत की तरह हैं और आप उनसे कितना प्यार करते है।

5. एक-दूसरे से बातें शेयर करते रहें

Some Natural Ways To Spice Up Your Sex Life

लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप में रहने पर ये समझना बहुत ज़रूरी है कि आप एक दूसरे से अपनी हर एक बात शेयर करें क्योंकि आप एक दूसरे के साथ नहीं रह रहे हैं या समय समय पर एक दूसरे से नहीं मिल रहे हैं। इसलिए पार्टनर ख़ुद देख कर उसके मूड का पता नहीं लगा सकता हैं। इसलिए लॉन्ग डिस्टेंस में रहने पर एक दूसरे से बातें शेयर करना और उन्हें ये बताना कि आप ख़ुश हैं या या नहीं है बहुत ज़रूरी है।

जब आप पार्टनर के साथ होते हैं तो ये अपेक्षाएं कर सकते हैं कि वो आपको देखकर समझ जाएं कि आपको कोई बात परेशान कर रही है या नहीं, लेकिन जब दूर होते हैं तो आपको ये समझना चाहिए कि वो आप ख़ुद देख नहीं पा रहे हैं और न ही मिल पा रही है जिससे वो आपके मूड को खुद नहीं समझ पाएंगे उसके लिए आपको उन्हें बताना ही होगा।

6. छोटी बातों को तूल न दें

जब आप लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप में रहते हैं तो छोटी छोटी बातों को ज़्यादा तूल देने से या बड़ा बनाने से बचना चाहिए। ऐसी लड़ाई से बचना चाहिए जिसकी कोई ज़रूरत नहीं है क्योंकि जब आप दूर रहते हैं तो गलतफहमियां अधिक हो सकती है क्योंकि उस समय न आप एक दूसरे से मिलते हैं और न ही बहुत ज़्यादा बात हो पाती है।

7. इसे समझने की कोशिश करें कि आप वाकई दूर हैं

इस बात को एक्सेप्ट और समझना बहुत ज़रूरी है कि आप लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप में है इसलिए वो चीज़ें आपके रिश्ते में नहीं हो सकती जो साथ में रहते हुए एक रिलेशनशिप में हो सकती है। इसलिए उन चीज़ों को लेकर शिकायतें करने से बचना चाहिए जो लॉग डिस्टेंस रिलेशनशिप में संभव नहीं है।

फोटो सौजन्य- गूगल

Sleep Separation: Separation of bedroom for a long time causes distance in relationships

Sleep Separation: आजकल शादीशुदा जिंदगी में एक ‘आदत’ काफी तेजी से फैल रहा है वो है स्लीप सेपरेशन या स्लीप डाईवोर्स। हम जानते है कि शादी के बाद कपल्स कई दिनों तक एक-दूसरे के साथ हर जगह स्पेस साझा करते हैं फिर चाहे वो बेड हो, किचन हो या आउट डोर। अगर वो अचानक एक दिन अपने बेडरूम अलग करने लगते हैं और ‘मी टाइम’ की तलाश में रहते हैं जिसे स्लीप सेपरेशन या स्लीप डाइवोर्स कहा जाता है। सुकून की नींद, आराम और पर्सनल स्पेस के लिए बहुत सारे लोग इस फॉर्मूला को अपना रहे हैं। इस स्थिति में दोनों पार्टनर अलग-अलग कमरों में सोते हैं। जिन लोगों को देर रात तक काम करना होता है, वे लोग भी पार्टनर की सहुलियत के लिए ऐसा करना चुनते हैं। लेकिन इसके सिर्फ फायदे ही नहीं हैं, कुछ साइड इफेक्ट्स भी हैं। जिसका पता आपको काफी देर से लगता है।

पहले जानें स्लीप डाइवोर्स है क्या?

Sleep Separation: Separation of bedroom for a long time causes distance in relationships

जब दो लोग किन्हीं कारणों से अपने बेडरूम अलग अलग कर लें, तो उस परिस्थिति को स्लीप डाइवोर्स कहा जाता है। कोई लाइट जलाकर सोना चाहता है, तो कोई देर तक काम करने का आदी है। ऐसे में दूसरा व्यक्ति हर बार अपनी नींद से समझौता करने लगता है। पर लंबे वक्त इस समस्या से दो चार होने के बाद अक्सर पार्टनर नींद की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए अलग सोने का फैसला करते हैं। अब वे अपने लिए अलग बेडरूम की तलाश करते हैं, जिसे स्लीप डाइवोर्स कहा जाता है।

वहीं, इंटरनेशनल हाउसवेयर एसोसिएशन के मुताबिक शादी या रिलेशन के कुछ सालों बाद हर 05 में से 01 कपल अलग-अलग सोने लगता है। वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के अनुसार एक तिहाई लोग घर खरीदने से पहले दोहरे मास्टर बेडरूम की तलाश करते हैं। अलग-अलग सोना कुछ समय के लिए तो फायदेमंद है लेकिन लंबे वक्त तक अगर इसी रूटीन को फॉलो किया जाए, तो इसका खामियाजा आपके रिश्तों को उठाना पड़ सकता है।

आखिर क्यों बढ़ने लगे हैं स्लीप डाइवोर्स के केस

इस बारे में एक्सपर्ट का कहना है कि नींद हमारे मानसिक स्वास्थ्य की बुनियाद है। नींद की गुणवत्ता में सुधार लाने से व्यक्ति तनाव, चिंता और डिप्रेशन से बचा रहता है। अगर आप पूरी नींद लेते हैं, तो उससे पार्टनर के साथ व्यवहार में भी बदलाव आने लगता है। न केवल कम्यूनिकेशन बेहतर होने लगता है बल्कि व्यक्ति को पर्सनल स्पेस मिलने लगता है। मगर कहीं न कहीं इससे रिलेशनशिप में चेंजिज़ आने लगते हैं। जहां सेक्सुअल लाइफ पर विराम लग जाता है, तो वहीं इमोशनल कनेक्शन लॉस होने लगता है। व्यक्ति इनसिक्योर फील करने लगता है।

जानें स्लीप डाइवोर्स के साइड इफे्क्टस

1 आपस में इमोशनल कनेक्शन का लॉस होना

Sleep Separation: Separation of bedroom for a long time causes distance in relationships

बढ़िया नींद पाने के लिए स्‍लीप डिवोर्स इन दिनों खूब ट्रेंड में हैं लेकिन दिनभर की दौड़भाग के बाद व्यक्ति अपने पार्टनर से अपनी दिनचर्या को साझा करता है और अपने अनुभव भी शेयर करता है। अकेले सोने से व्यक्ति उन सभी चीजों से वंचित रह जाता है। दरअसल, आपको सुनने वाला व्यक्ति आपके आसपास नहीं रहता है। इससे दो लोगों के मध्य बनने वाला इमोशनल कनेक्शन लॉस होने लगता है।

2 रिश्तों में इंटिमेसी की कमी

टचिंग, किसिंग, कडलिंग और स्पूनिंग पार्टनर के साथ रिश्ते को मज़बूत बनाते हैं। सेपरेट स्लीप के दौरान व्यक्ति पहले पहल पार्टनर को मिस करने लगता है और फिर उसी रूटीन को फॉलो करने लगता है। इससे सेक्सुअल लाइफ प्रभावित होती है, जिससे कुछ लोग तनाव का सामना करने लगते हैं।

3 अकेलेपन में इजाफा

स्लीप क्वालिटी को बढ़ाने के लिए अक्सर कपल्स स्लीप डाइवोर्स को अपनाते हैं। मगर दूर दूर सोने से व्यक्ति खुद को अकेला महसूस करने लगता है। इससे संबधों में दूरियां बढ़ने लगती है और ये मिसअंडरस्टैंडिग का कारण भी बन जाता है। दरअसल, स्लीप डाइवोर्स में लोग खुद को इनसिक्योर समझने लगते हैं।

4 टूट भी सकता है रिश्ता

कई रिसर्च में यह बात सामने आई है कि जो जोड़े एक साथ बिस्तर शेयर करते हैं, उनमें मनमुटाव या विवाद के सुलझने की संभावनाएं ज्यादा होती हैं। जबकि अलग-अलग सोने वाले जोड़े एक ही मुद्दे पर लंबे समय तक झगड़ते रह सकते हैं। ऐसे में रिश्ता टूटने या किसी एक या दोनों के कहीं ओर स्पेस तलाशने का जोखिम ज्यादा बढ़ जाता है।

अच्छी नींद और कम्फर्ट के लिए अलग सो रहे हैं, तो इन बातों का रखें खास ध्यान

  • एक साथ समय कब बिताना है, इस बारे में जरूर बात करें और उस रुटीन को फॉलो करें।
  • मी टाइम के साथ-साथ वी टाइम के महत्व को समझते हुए उसे साथ बिताने के बारे में भी प्लान करें। इससे साथ का अहसास बना रहता है।
  • वीकेण्ड पर स्लीप डाइवोर्स से ब्रेक लें। इससे रिश्तों में संतुलन को बनाए रखने में मदद मिलती है और फिज़िकल इंटिमेसी बनी रहती है।
  • अलग-अलग कमरों में सोते हैं और किसी मसले पर विवाद है, तो उस पर बात करने का समय निकालें। उसे जल्द से जल्द सुलझाने का प्रयास करें।
  • गैजेट्स को बेडरूम से बाहर रखें। यह आपकी नींद और रिश्ते दोनों के लिए ही अच्छा है।
Akshay Tritiya celebrated in the country

Akshay Tritiya 2024: अक्षय तृतीया का पर्व आज देश के अलग-अलग हिस्सों में मनाया जा रहा है। आमतौर पर आखा तीज को ही अक्षय तृतीया के नाम से जाना जाता है। इसे हिंदू और जैन धर्म में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। यह शुभ अवसर समृद्धि और नई शुरुआत का खास प्रतीक है। अक्षय शब्द का मतलब स्वयं अविनाशी या अमर होता है। यह इस विश्वास को बताता है कि इस खास दिन किए गए किसी भी कार्य को असीम सफलता और सौभाग्य का आशीर्वाद प्राप्त होता है। आइये देखे कि अक्षय तृतीया का क्या महत्व है, इस वर्ष इसका शुभ मुहूर्त कब है और साथ ही ये भी जानेंगे कि क्यों इस मौके पर लोग सोना की खरीदारी करते हैं।

जानें अक्षय तृतीया का महत्व

हिंदू पंचांग के मुताबिक वैशाख महीने के तीसरी तिथि को अक्षय तृतीया कहा जाता है। यह वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। इस दिन के मद्देनजर लोगों में कई मान्यताएं हैं जिसमें से सबसे प्रमुख मान्यता ये है कि इस दिन पंचांग देख कर किसी भी तरह के मांगलिक और शुभ कामों किया जा सकता है। इस दिन धन योग के साथ रवि योग, शुक्रादित्य योग, मालव्य योग जैसे कई शुभ योग बनते हैं। इसलिए इस इस राजयोग में मां लक्ष्मी और भगवान कुबेर की पूजा करने से कई गुना ज्यादा फलों की प्राप्ति होती है।

अक्षय तृतीया पूजा मुहूर्त

इस वर्ष अक्षय तृतीया शुक्रवार, 10 मई, 2024 को पड़ रहा है।

  • तृतीया तिथि का आरंभ-    10 मई 2024 को सुबह 4:17 बजे
  • तृतीया तिथि का समापन – 11 मई 2024 को रात 2:50 बजे
  • अक्षय तृतीया पूजा मुहूर्त – सुबह 5:33 बजे से दोपहर 12:18 बजे तक
  • कुल अवधि –                     6 घंटे 44 मिनट

अक्षय तृतीया की शुरुआत 10 मई को सुबह 4 बजकर, 17 मिनट पर होगा। इसका समापन 11 मई को सुबह 2 बजकर 50 मिनट पर होगा। यही कारण है कि इस बार अक्षय तृतीया 10 मई को मनाया जाएगा।

इस दिन क्यों सोना खरीदते हैं लोग?

अक्षय तृतीया के दिन सोना खरीदने की परंपरा काफी पुरानी है। लोग इस दिन सोने की दुकान पर सोने के सिक्के, आभूषण खरीदते हैं या फिर सोने में निवेश करते हैं लेकिन सवाल यह है सोना ही क्यों? असल में सोना सिर्फ एक धातु नहीं बल्कि धन-दौलत का प्रतीक माना जाता है। अक्षय तृतीया के दिन सोना खरीदने से घर में हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहती है और धन का आगमन होता रहता है।

अक्षय तृतीया को बहुत ही शुभ दिन माना जाता है, इसलिए इस दिन किया गया कोई भी निवेश अच्छा फल देता है। सोना खरीदने के लिए यह बहुत ही अच्छा दिन माना जाता है। सदियों से अक्षय तृतीया पर सोना खरीदने की परंपरा चली आ रही है। यह भारतीय संस्कृति का अहम हिस्सा बन चुका है और त्योहार को मनाने का एक शुभ तरीका माना जाता है। भले ही अक्षय तृतीया पर सोना खरीदने की परंपरा पुरानी है पर आजकल इसके मायने थोड़े बदल गए हैं। अब लोग इसे सिर्फ शुभ निवेश ही नहीं, बल्कि भविष्य के लिए आर्थिक सुरक्षा और महंगाई से बचने का तरीका भी मानने लगे हैं।

फोटो सौजन्य- गूगल

Fertility Rate: If you want to plan a baby

Fertility Rate (फर्टिलिटी रेट) में कमी आना कई वजहों से आ सकती है। कुछ माइक्रो न्यूट्रिएंट फर्टिलिटी रेट बढ़ा सकते हैं। ऐसे कई खाद्य पदार्थ हैं जो माइक्रो न्यूट्रिएंट से भरपूर होने के साथ-साथ फर्टिलिटी रेट में भी इजाफा कर सकते हैं।

आखिर आजकल क्यों ज्यादा हो रही है इमफर्टिलिटी

Fertility Rate: If you want to plan a baby

लोगों में बदलती जीवनशैली, स्मोकिंग और नशा का सेवन, मोटापा, अनियमित पीरियड्स, लो सपर्म काउंट जैसे कई कारण इमफर्टिलिटी के लिए जिम्मेदार हैं। कुछ माइक्रोन्यूट्रिएंट फर्टिलिटी रेट बढ़ा सकते हैं। ऐसे कई खाद्य पदार्थ हैं, जो माइक्रो न्यूट्रिएंट से भरपूर होते हैं और फर्टिलिटी रेट भी बढ़ा सकते हैं।

एग क्वालिटी बढ़ाता है फोलेट

फोलेट को विटामिन B-9 के रूप में भी जाना जाता है। यह शरीर को रेड ब्लड सेल्स बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। फोलेट लेवल अंडे की गुणवत्ता, परिपक्वता, निषेचन और प्रत्यारोपण के लिए अहम है। फोलेट की कमी गर्भधारण की क्षमता को प्रभावित कर सकती है। फोलेट स्वाभाविक रूप से बीन्स, नट और सीड्स, अंडे, ताजा पत्तेदार साग, चुकंदर, संतरे, नींबू और अंगूर जैसे खट्टे फल, ब्रसेल्स स्प्राउट्स, ब्रोकोली, केल और एवोकाडो जैसे खाद्य पदार्थों में भी पाया जाता है।

ओव्यूलेशन में अहम भूमिका निभाता है जिंक

जिंक ओव्यूलेशन और पीरियड में महत्वपूर्ण रोल अदा करता है। यह स्पर्म क्वालिटी और स्पर्म मोबिलिटी में सुधार करने में मदद करता है। यह सूजन बढ़ाने वाले एजेंटों के खिलाफ कार्य करता है। हार्मोनबैलेंसर के रूप में जिंक टेस्टोस्टेरोन और प्रोजेस्टेरोन को संतुलित करता है। यह महिला और पुरुष दोनों के यौन स्वास्थ्य को मजबूती देता है। रेड मीट जिंक का एक बढ़िया सोर्स है। कद्दू के बीज, हैम्प सीड्स, तिल के बीज और अलसी के बीज में भारी मात्रा में जिंक पाया जाता है। डेयरी प्रोडक्ट्स, सब्जियां, नट्स, डार्क चॉकलेट भी इसके स्रोत हैं।

फीटस डेवलपमेंट में मदद करता है Vit- A

पर्याप्त विटामिन- A का स्तर अंडे की गुणवत्ता और भ्रूण के विकास में मदद करता है। यह स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखने, विकास और प्रजनन स्वास्थ्य के लिए भी आवश्यक है। इसकी कमीसे फर्टिलाइज़ेशन नहीं हो पाता है और फीटस में विकृति आ सकती है। अच्छे स्रोत प्रदान करने वाले खाद्य पदार्थों में बीफ़ लिवर, कॉड लिवर आयल, शकरकंद, गाजर और कई अन्य फल और सब्जियां शामिल हैं।

ल्यूटियल फेज के लिए सेलेनियम

Fertility Rate: If you want to plan a baby

फर्टिलिटी के लिए सेलेनियम एक एसेंशियल ट्रेस मिनरल है, जिसका उपयोग प्रोटीन बनाने के लिए किया जाता है। यह एक एंटीऑक्सीडेंट भी है, जो प्रजनन क्षमता में भूमिका निभा सकता है। सेलेनियम ल्यूटियल फेज में अहम भूमिका निभाता है। ल्यूटियल फेज की कमी से अपर्याप्त प्रोजेस्टेरोन सीक्रेशन और लो एंडोमेट्रियम हो सकता है। जिन खाद्य पदार्थों में सेलेनियम होता है, उनमें ब्राजील नट्स, सी फूड्स, पोल्ट्री, ब्राउन राइस और होल व्हीट ब्रेड भी शामिल हैं।

प्रजनन क्षमता बढ़ा सकता है Vit- D

विटामिन-D रिसेप्टर्स पूरे प्रजनन टीशू में वितरित होते हैं। प्रजनन क्षमता में विटामिन-D की अहम भूमिका होती है। विटामिन-D ट्रीटमेंट से टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ सकता है। इससे फर्टिलिटी रेट भी बढ़ सकती है। सूर्य की किरण के अलावा, विटामिन-D गाय के दूध, सोया मिल्क, संतरे के रस में भी पाया जाता है।

फोटो सौजन्य- गूगल

Surya Tilak

Surya Tilak: आयोध्या में रामलला विराजमान हो चुके हैं। जनवरी महीने से ही भक्तों का भीड़ उमड़ रही है। आयोध्या में राम मंदिर तैयार होने के बाद पहली बार श्री रामनवमी धूमधाम से मनाई गई। इस अवसर पर रामलला का सूर्याभिषेक किया गया। रामलला के माथे पर करीब 04 मिनट तक सूर्य की किरणें उन्हें चूमती रहीं। इस खास नजारे को देखकर हर कोई अचंभित था। देखा जाए तो वैज्ञानिक तरीके से उनका सूर्य तिलक किया गया। इस मौके पर करीब 10 वैज्ञानिकों की टीम मंदिर परिसर में मौजूद रही।

सूर्य की किरणें जैसे ही रामलला के माथे पर पड़ी तो उनकी मूर्ति रोशनी से जगमगा गई। यह सूर्य तिलक करीब 2 से 2.50 मिनट तक चला। भगवान राम का सूर्य तिलक करने के लिए आईआईटी रुड़की के वैज्ञानिकों की टीम को शामिल किया गया था। इस भव्य, दिव्य और अलौकिक सूर्य तिलक का 100 एलईडी स्क्रीन से पूरे अयोध्या में लाइव टेलिकास्ट हुआ। इस अद्भुत नजारे का पूरा वीडियो सामने आया है।

रामलला का हुआ सूर्य तिलक

दरअसल, IIT की टीम ने दर्पण और लेंस से युक्त एक विशेष उपकरण बनाया है। ताकि सूर्य की किरणों को सीधे रामलला के माथे पर पड़ें। एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस सूर्य किरण को ऑप्टोमैकेनिकल सिस्टम के तहत इसे अंजाम दिया गया है। मंदिर की तीसरी मंजिल पर ऑप्टो मैकेनिकल सिस्टम स्थापित किया गया। फिर हाई क्वालिटी मिरर, एक लेंस और खास कोणों पर लगे लेंस के साथ वर्टिकल पाइपिंग लगाए गए। मंदिर के ग्राउंड फ्लोर पर दो मिरर और एक लेंस फिट किए गए। तीसरे फ्लोर पर जरूरी उपकरण लगाए गए। सूर्य की रोशनी तीसरे फ्लोर पर लगे पहले दर्पण पर गिरी। फिर तीन लेंस और दो अन्य मिरर से होते हुए सीधे ग्राउंड फ्लोर पर लगे आखिरी मिरर पर पड़ी। इससे रामलला की मूर्ति के मस्तक पर सूर्य किरणों का एक तिलक होने लगा।

वहीं, पाइप के भीतरी सतह को काले पाउडर से रंगा गया ताकि सूर्य की किरणें बिखरने ना पाएं। सूर्य की गर्मी को रोकने के लिए इन्फ्रारेड फिल्टर ग्लास का भी प्रयोग किया गया है। सूर्य अभिषेक के रामनवमी के दिन सफल बनाने के लिए इसका ट्रायल भी किया गया था।

क्योंकि भगवान श्रीराम सूर्यवंशी थे..

CSIR-CBRI रुड़की के वैज्ञानिक ने कहा कि हर साल इस दिन आकाश पर सूर्य की स्थिति बदलती है। उन्‍होंने कहा कि विस्तृत गणना से पता चलता है कि श्री रामनवमी की तिथि हर 19 साल में दोहरायी जाती है। बता दें कि पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान श्रीराम सूर्यवंशी थे, इसलिए उन्हें सूर्य तिलक किए जाने की परंपरा है।

Holika Dahan: प्राचीन त्योहारों की यही खूबसूरती है कि इनके पीछे छुपे पौराणिक कथा हमें अक्सर आकर्षित करते हैं. आईये जाने होलिका दहन क्यों मनाते हैं और क्या है इसका इतिहास. होलिका दहन का पर्व हमें संदेश देता है कि भगवान अपने भक्तों की रक्षा के लिए हमेशा मौजूद रहते हैं.

होलिका दहन, होली त्योहार का पहला दिन, फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इसके अगले दिन रंगों से खेलने की परंपरा है जिसे धुलेंडी, धुलंडी और धूलि वगैरह नामों से भी जाना जाता है। होली बुराई पर अच्छाई की विजय के रूप में मनाई जाती है। होलिका दहन (छोटी होली) के अगले दिन पूर्ण हर्षोल्लास के साथ रंग खेलने का परंपरा है और अबीर-गुलाल आदि एक-दूसरे को लगाकर और गले मिलकर इस पर्व को मनाया जाता है।

भारत में मनाए जाने वाले बेहतरीन त्योहारों में से एक है होली। दीवाली की तरह ही इस त्योहार को भी अच्छाई की बुराई पर जीत का त्योहार माना जाता है। हिंदुओं के लिए होली का पौराणिक महत्व भी है। इस त्योहार के मद्देनज़र सबसे प्रचलित है प्रहलाद, होलिका और हिरण्यकश्यप की कहानी। पर होली की सिर्फ यही नहीं बल्कि और भी कई कहानियां प्रचलित है। वैष्णव परंपरा मे होली को, होलिका-प्रहलाद की कहानी का प्रतीकात्मक सूत्र मानते हैं।

होलिका दहन का शास्त्रों के अनुसार नियम

Why do we celebrate Holika Dahan

फाल्गुन शुक्ल अष्टमी से फाल्गुन पूर्णिमा तक होलाष्टक माना जाता है, जिसमें शुभ कार्य वर्जित रहते हैं। पूर्णिमा के दिन होलिका-दहन किया जाता है। इसके लिए मुख्यतः दो नियम ध्यान में रखने ज़रूरी होते हैं-

पहला, उस दिन ‘भद्रा’ न हो। भद्रा का दूसरा नाम विष्टि करण भी है, जो कि 11 करणों में से एक है। एक करण तिथि के आधे भाग के बराबर होता है।

दूसरी बात, पूर्णिमा प्रदोषकाल-व्यापिनी होनी चाहिए। सरल शब्दों में कहें तो उस दिन सूर्यास्त के बाद के तीन मुहूर्तों में पूर्णिमा तिथि होनी चाहिए.

पुराणों के अनुसार दानवराज हिरण्यकश्यप ने जब देखा कि उसका पुत्र प्रह्लाद सिवाय विष्णु भगवान के किसी अन्य को नहीं जपता, तो वह क्रोधित हो उठा और आखिर में उसने अपनी बहन होलिका को आदेश दिया कि वह प्रह्लाद को गोद में लेकर अग्नि में बैठ जाए, क्योंकि होलिका को वरदान प्राप्त था कि उसे अग्नि नुक़सान नहीं पहुंचा सकती। लेकिन हुआ इसके ठीक विपरीत, होलिका जलकर भस्म हो गई और भक्त प्रह्लाद को कुछ भी नहीं हुआ। इसी घटना की याद में इस दिन होलिका दहन करने का विधान है। होली का पर्व संदेश देता है कि इसी तरह ईश्वर अपने सभी भक्तों की रक्षा के लिए सदा मौजूद रहते हैं। होली की केवल यही नहीं बल्कि और भी कई कहानियां प्रचलित है।

कामदेव को किया था भस्म 

होली की एक कहानी कामदेव की भी है। पार्वती शिव से विवाह करना चाहती थीं लेकिन तपस्या में लीन शिव का ध्यान उनकी तरफ गया ही नहीं। ऐसे में प्यार के देवता कामदेव आगे आए और उन्होंने शिव पर पुष्प बाण चला दिया। तपस्या भंग होने से शिव को इतना गुस्सा आया कि उन्होंने अपनी तीसरी आंख खोल दी और उनके क्रोध की अग्नि में कामदेव भस्म हो गए। कामदेव के भस्म हो जाने पर उनकी पत्नी रति रोने लगीं और शिव से कामदेव को जीवित करने की गुहार लगाई। अगले दिन तक शिव का क्रोध शांत हो चुका था, उन्होंने कामदेव को पुनर्जीवित किया। कामदेव के भस्म होने के दिन होलिका जलाई जाती है और उनके जीवित होने की खुशी में रंगों का त्योहार मनाया जाता है।

महाभारत से जुड़ी कहानी

महाभारत की एक कहानी के अनुसार युधिष्ठर को श्री कृष्ण ने बताया कि एक बार श्री राम के एक पूर्वज रघु, के शासन में एक असुर महिला थी। उसे कोई भी नहीं मार सकता था, क्योंकि वह एक वरदान द्वारा सुरक्षित थी। उसे गली में खेल रहे बच्चों के अलावा किसी से भी डर नहीं था। एक दिन, गुरु वशिष्ठ, ने बताया कि उसे मारा जा सकता है, अगर बच्चे अपने हाथों में लकड़ी के छोटे टुकड़े लेकर, शहर के बाहरी इलाके के पास चले जाएं और सूखी घास के साथ-साथ उनका ढेर लगाकर जला दें। फिर उसके चारों ओर परिक्रमा दें, नृत्य करें, ताली बजाएं, गाना गाएं और नगाड़े बजाएं। फिर ऐसा ही किया गया। इस दिन को एक उत्सव के रूप में मनाया गया, जो बुराई पर एक मासूम मन की जीत का प्रतीक है।

श्रीकृष्ण और पूतना से जुड़ी कहानी

होली का श्रीकृष्ण से गहरा रिश्ता है। जहां इस त्योहार को राधा-कृष्ण के प्रेम के प्रतीक के तौर पर देखा जाता है। वहीं, पौराणिक कथा के अनुसार जब कंस को श्रीकृष्ण के गोकुल में होने का पता चला तो उसने पूतना नामक राक्षसी को गोकुल में जन्म लेने वाले हर बच्चे को मारने के लिए भेजा। पूतना स्तनपान के बहाने शिशुओं को विषपान कराना था। लेकिन कृष्ण उसकी सच्चाई को समझ गए। उन्होंने दुग्धपान करते समय ही पूतना का वध कर दिया। कहा जाता है कि तभी से होली पर्व मनाने की मान्यता शुरू हुई।

ईसा से 300 वर्ष पुराने अभिलेख में भी उल्लेख

विंध्य पर्वतों के निकट स्थित रामगढ़ में मिले एक ईसा से 300 वर्ष पुराने अभिलेख में भी इसका उल्लेख मिलता है। कुछ लोग मानते हैं कि इसी दिन भगवान श्री कृष्ण ने पूतना नामक राक्षसी का वध किया था। इसी ख़ुशी में गोपियों ने उनके साथ जमकर होली खेली थी।

Roze ki Dua: Dua for fasting in Ramzan

Roza Rakhne or Kholne Ki Dua: मुस्लिमों के लिए रमजान के महीने में रोजा रखना और कुरान शरीफ को पढ़ना जरूरी माना गया है। इस्लामिक धार्मिक मान्यताओं मुताबिक रमजान महीना सबसे पाक महीना माना जाता है। कहते हैं इस दौरान जो भी दुआएं की जाती हैं वो जरूर पूरी होती हैं। इस महीने में मुस्लिम लोग अपना ज्यादा से ज्यादा वक्त अल्लाह की इबादत में बिताते हैं।

कहते हैं कि रमज़ान के महीने में अल्लाह की खूब रहमत बरसती है। बुराई पर अच्छाई हावी हो जाती है। इस महीने मुसलमान अपनी चाहतों पर कंट्रोल करके केवल अल्लाह की इबादत करते हैं। इस महीने को सब्र और बरकत का महीना भी कहा जाता है।

कुछ लोग ऐसे भी हैं जो दुआएं भी पढ़ते हैं पर अगर आप दुआएं भूल गए हैं तो आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि आज हम रमज़ान में पढ़ी जाने वाली दुआओं के बारे में बताने जा रहे हैं। इसे आप अपने रूटीन में शामिल कर रमज़ान की रहमत हासिल कर सकते हैं। यहां आप जानेंगे रोजा रखने और खोलने की दुआ-

रोजा रखने की दुआ

Roze ki Dua: Dua for fasting in Ramzan

अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के अनुसार जब भी कोई रोजा रखता है, तो उसे सहरी खाने के बाद यानि फज्र की अज़ान से पहले इस दुआ को पढ़ना चाहिए।

हिंदी में रोजा रखने की दुआ

‘व बि सोमि गदिन नवई तु मिन शहरि रमज़ान’

मतलब- इस दुआ का अर्थ यह है कि मैं रमज़ान के इस रोजे की नियत करता/करती हूं।

रोजा खोलने की दुआ

जिस तरह से रोजा रखते समय दुआ पढ़ी जाती है ठीक वैसे ही रोजेदार को रोजा खोलने से पहले यह दुआ जरूर पढ़नी चाहिए। कहा जाता है इस दुआ को पढ़ने से खाने में बरकत होती है। ध्यान रखें कि यह दुआ खजूर खाने से पहले पढ़नी चाहिए और दुआ खत्म होने के बाद ही कुछ खायें।

हिंदी में रोजा खोलने की दुआ

‘अल्लाहुम्मा इन्नी लका सुमतु, व-बिका आमन्तु, व-अलयका तवक्कालतू, व- अला रिज़क़िका अफतरतू’

इस दुआ का मतलब है- ऐ अल्लाह मैंने तेरी रज़ा के लिए रोजा रखा है और तेरे ही कहने पर रोजा खोल रहा/रही हूं।

फोटो सौजन्य- गूगल